Menu
blogid : 316 postid : 733439

उस शराब की बोतल से जुड़ी थी हिटलर की किस्मत, अब यह मनहूस बोतल किसके नसीब में होगी यह वक्त बताएगा

20 अप्रैल, 1943 को अपने 54वें जन्मदिन के मौके पर हिटलर ने बेहद मंहगी शराब की बोतल मंगवाई थी. विशेषतौर पर रेड वाइन की वो बोतल हिटलर के लिए लाई गई थी जिसका नाम था ‘फ्यूहररवीन’ अथवा फ्यूहररवाइन यानि नेताओं की शराब. 1.5 लीटर रेड वाइन की इस बोतल पर उसने अपनी तस्वीर भी छपवाई थी लेकिन जब पीने का मौका आया तो उसने बेहद महंगी इस शराब को पीने से मना कर दिया क्योंकि दुनिया को अपनी ताकत तले रौंदने वाला हिटलर कभी शराब नहीं पीता था. वह शौकीन था, उसे हर चीज का शौक था लेकिन उसने कसम खाई थी कि वह कभी शराब को हाथ तक नहीं लगाएगा.


hitler

इतने सालों बाद खासतौर पर नाजी सम्राट हिटलर के लिए बनाई गई रेड वाइन की इस बोतल को नीलामी के लिए रखा जा रहा है और ऐसी उम्मीद है कि यह करीब 2,000 पाउंड में बिकेगी और वो भी तब जब यह पीने लायक नहीं बची.


Read:बैठे-बिठाए अमीर बनकर भविष्य सुरक्षित करने का इससे अच्छा उपाय नहीं हो सकता


नाजी पार्टी के बदनाम चिह्न, नाजियों को सामग्री पहुंचाने वाले ऑफिस की स्टैंप और चील के निशान वाली इस वाइन की बोतल को खरीदने की होड़ अभी से लग गई है जबकि सब यह जानते हैं कि इतनी पुरानी वाइन अब पीने योग्य नहीं बची.


जर्मन सैनिक ने इस बोतल को हंगरी के सैनिक को तोहफे में दी थी और तब से यह रेड वाइन की बोतल हंगरी के उस सैनिक के परिवार के पास है. वर्ष 1943 का वो साल उस शराब की बोतल के लिए तो अच्छा था क्योंकि उसे विशेषतौर पर हिटलर के लिए बनाया जा रहा था लेकिन हिटलर के लिए वो साल मनहूस था क्योंकि उसकी सभी सहयोगी ताकतें उससे दूर हो गई थीं.


अपने स्टाफ को तोहफे में देने के लिए हिटलर ने खास तरीके से बनाई गई इस शराब की बोतल को बनवाया था लेकिन स्वयं से वह इतना प्रेम करता था कि इस बोतल पर भी उसने अपनी तस्वीर छपवा दी.


शराब बनने के दो वर्ष पश्चात हिटलर की मौत हो गई और यह बोतल कभी नहीं खुली. आज इसे नीलाम किया जा रहा है लेकिन यह मनहूस बोतल किसके नसीब में होगी यह वक्त बताएगा.


Read more:

एडोल्फ हिटलर: उदय से अस्त होने की कहानी

हिटलर का पुनर्जन्म हो चुका है कुत्ते के रूप में

जब हिटलर की झूठी डायरी ने किया परेशान


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *