Menu
blogid : 316 postid : 1112822

विज्ञान हुआ फेल, इस सरकारी स्कूल में रिस्ट बैंड बताते हैं लोगों की जाति

लाल, हरा, पीला, नीला और सफेद. रंगों को देखकर हम सभी का मन खुशियों से भर जाता है. सबके लिए कोई न कोई रंग खास महत्व रखता है. लेकिन जब इन्हीं रंगों का इस्तेमाल किसी की जाति जानने के लिए किया जाने लगे. तो रंग अपना वास्तविक अर्थ खोने लगते हैं. चेन्नई से 650 किलोमीटर दूर तिरुनेलवेली के एक स्कूल में इन दिनों अलग-अलग रंगों का प्रयोग जाति जानने किया जा रहा है. बच्चों को अपनी जाति अनुसार निर्धारित किए हुए रंगों के बैंड कलाई, माथे और गले में पहनने की सख्त हिदायत दी गई है.


Bracelets


Read : इस अनोखे स्कूल में शिष्यों को आईफोन रखने की है छूट, मगर टीवी पर है बैन


जिसमें लाल और पीला रंग थेवर्स के लिए, नीला और पीला नादार जाति के लिए, केसरिया रंग यादव के लिए और पिछड़ी जातियों और दलितों के लिए हरा, काला और सफेद रंग का प्रयोग करने के लिए कहा गया है. स्कूल अधिकारियों का कहना है कि इस साल अगस्त से स्कूल में बच्चों की संख्या बहुत बढ़ गई थी जिसके तहत उनकी जाति को पहचानने के लिए ये रास्ता अपनाया गया है. जबकि ऐसा आधिकारिक तौर पर नहीं किया गया है. किसी को लिखित नोटिस नहीं भेजा गया है बल्कि स्कूल में की गई एक मीटिंग के दौरान स्कूल प्रिंसिपल ने मौखिक तौर  ये अजीबोगरीब फरमान जारी किया है.


Read : होमवर्क न करने पर स्कूल टीचर ने दिया ऐसा दंड!


स्कूल में पढ़ने वाले 13 साल के एक किशोर का कहना है कि पीला मेरा पसंदीदा रंग है लेकिन मैं इसे पहन नहीं सकता क्योंकि ऐसा करने से मुझे थेवरों की धमकी मिलनी शुरू हो जाएगी. वहीं एक अन्य दलित किशोर को डर है कि अगर वो अपने उच्च जाति के दोस्त के साथ बैठेगा तो स्कूल से उसको निकाल दिया जायेगा. आज जहां दुनिया जाति,धर्म से ऊपर उठकर दकियानूसी सामाजिक सरोकारों को चुनौती दे रही है. वहां ऐसे शर्मनाक मामले शिक्षा और समाज का दौरा चेहरा पेश कर रहे हैं…Next


Read more :

यह स्कूल बाकी स्कूलों से कुछ स्पेशल है क्योंकि यहां केवल जुड़वा बच्चे आते हैं, जानिए कहां है यह अद्भुत स्कूल

बच्चे ने जन्म लेने से पहले ही स्कूल में मास्टर बनने की योग्यता हासिल कर ली, अजीब सी यह खबर पढ़कर आप भी हैरान रह जाएंगे

इस नामी स्कूल में लड़के-लड़कियों को दी गई एक मीटर दूरी रखने की सख्त हिदायत

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *