Menu
blogid : 316 postid : 764185

एक असहाय पिता की गुहार इंटरनेट भी अनसुना नहीं कर पाया और उसकी मरी हुई बेटी के चेहरे पर मुस्कान ला दी…

एक परिवार के लिए सबसे बड़ी खुशी की बात तब होती है जब उस परिवार में कोई बच्चा जन्म लेता है, लेकिन यह भी बात सच है कि उसी परिवार के लिए सबसे बड़ी दुख बात तब होती है जब जन्म लेने के बाद उसी बच्चे को तुरंत भगवान अपने पास बुला लें.


image1

एक पिता के साथ कुछ ऐसा ही हुआ. नाथन स्टेफल नाम के एक व्यक्ति ने इंटरनेट पर खासकर सोशल मीडिया यूज करने वाले लोगों से हृदय विदारक गुहार लगाई है. नाथन ने अपनी बेबी का फोटो इटरनेट पर अपलोड किया है. उन्होंने लोगों से बिनती की है कि फोटो में लगे ट्यूब्स को कोई हटा दे.


Read: क्या आपको यह चेहरा डरावना लगता है…अपने ही चेहरे से डरने वाली एक बच्चे की मार्मिक कहानी


image2


दरअसल नाथन पिछले सप्ताह अपनी बेबी सोफिया को खो चुके हैं. उसकी उम्र महज डेढ़ महीने की थी और उसने अपनी नन्ही आंखों से पूरी दुनिया भी नहीं देखी थी. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के डॉक्टरों की माने तो सोफिया हेपटिक हेमगिओमा जैई बीमारी से पीड़ित थी. यह एक तरह का लिवर ट्यूमर है. सोफिया ने अपनी छोटी सी जिंदगी अस्पताल में अपनी बिमारी से लड़ने में ही बिता दी.



image3


उसकी स्थिति को देख न केवल उसके पिता बल्कि अस्पताल में सभी लोग उदास हो जाते थे. जबसे उसका जन्म हुआ है उसके परिवार वालों ने उसे बिना ट्यूब्स के नहीं देखा था. उसके पूरे शरीर में ट्यूब्स लगे हुए थे. पिता ने उसकी फोटो खींची और इंटरनेट यूज करने वाले लोगों से गुहार लगाई है कि वह कैसे भी करके सोफिया के बदन से ट्यूब्स हटा दें.


Read: कितना बोरिंग है अकेले मॉम की डांट खाना, कंपनी मिल जाए तो मजा आ जाए



image4


लोगों ने इस मार्मिक अनुरोध को दिल से लिया और फोटोशॉप के जरिए उस ट्यूब्स को सोफिया के बदन से हटा दिया. यह नहीं, कुछ लोगों ने तो सोफिया की बिना ट्यूब्स की पेंटिग और पेंसिल स्केच भी बनाई. इस तरह से लोगों ने पिता के इस अनुरोध पर भावनात्मक प्रतिक्रिया जाहिर की.


बिना ट्यूब्स की सोफिया की अन्य तस्वीरें देखें:

1.


image5


2.


image6

3.

image7

Read more:

परियों की कहानी सुनने की उम्र में वो मासूम अपने जीवन की सबसे बड़ी लड़ाई लड़ते हुए दुनिया को अलविदा कह गई

फेसबुक पर वहशी बनी 19 साल की लड़की

बेटे की खुशी के लिए एक मां ने उसे मरने की आजादी दे दी



Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *