Menu
blogid : 316 postid : 1390039

आपकी दिवाली हो जाएगी थोड़ी महंगी, जानें इन सामानों के क्यों बढ़ गए दाम

दिवाली आने में कुछ ही वक्त बचा है। ऐसे में आपकी तैयारियां अभी से शुरू हो गई होगी। कई लोगों ने लग्जरी सामान खरीदने की प्लानिंग भी कर ली होगी, क्योंकि दिवाली पर कई ऑफर्स आते हैं लेकिन आपके लिए इस बार दिवाली मंहगी हो सकती है।

Pratima Jaiswal
Pratima Jaiswal 28 Sep, 2018

केंद्र सरकार ने ऐशो-आराम के सामान (लग्जरी आइटम्स) पर बेसिक कस्टम ड्यूटी (मूल सीमा शुल्क) बढ़ाने का फैसला ले ही लिया। सरकार ने 19 लग्जरी आइटम्स पर आयात शुल्क में वृद्धि की है। यह वृद्धि बुधवार मध्यरात्रि से प्रभावी हो चुकी है। यानी, अब विदेशों से आनेवाले ये सामान अब महंगे हो गए हैं।

 

 

लग्जरी आइटम्स पर बढ़ा बेसिक कस्टम ड्यूटी
वित्त मंत्रालय ने बयान में कहा कि बीते वित्त वर्ष में इन उत्पादों का कुल आयात बिल 86,000 करोड़ रुपये रहा था। आयात शुल्क वृद्धि से कुछ उत्पादों का आयात महंगा हो जाएगा।

 

ये चीजें हो जाएगी मंहगी जाएगी
जिन अन्य वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ाया गया हैं उनमें वॉशिंग मशीन, स्पीकर, रेडियल कार टायर, आभूषण उत्पाद, किचन और टेबल वेयर, कुछ प्लास्टिक के सामान तथा सूटकेस शामिल हैं।

 

 

 

( बेसिक कस्टम ड्यूटी )

आइटम                                                                                                 पहले           अब

एसी                                                                                                       10           20

रेफ्रीजरेटर                                                                                              10           20

वॉशिंग मशीन                                                                                        10           20

फ्रीज और एसी के कंप्रेसर                                                                       7.5           10

स्पीकर                                                                                                  10            15

फुटवियर                                                                                               20           25

हीरा                                                                                                       5             7.5

सोने-चांदी की जूलरी                                                                              15           20

किचन/ऑफिस के प्लास्टिक के सामान                                                 10           15

सूटकेस, ब्रीफकेस, ट्रैवल बैग                                                                   10           15

 

आयात शुल्क में ये बदलाव 26-27 सितंबर की मध्यरात्रि से लागू होंगे। चालू खाते के घाटे पर अंकुश तथा पूंजी के बाह्य प्रवाह को रोकने के लिए ये उपाय किए गए हैं। विदेशी मुद्रा के अंत: प्रवाह और बाह्य प्रवाह का अंतर कैड कहलाता है। चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में कैड बढ़कर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 2।4 प्रतिशत पर पहुंच गया है…Next

 

Read More :

दिल्ली में पुरूषों में बढ़ रहा है इस बीमारी का खतरा, ऐसे बरतें सावधानी

Google पर सर्चिंग तो बहुत की होगी लेकिन कभी ट्राई किए हैं ये मैजिकल ट्रिक्स

‘अडल्टरी’ अब अपराध नहीं, जानें क्या है आईपीसी की धारा 497

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *