Menu
blogid : 316 postid : 1397336

100 से ज्यादा कोरोना वैक्सीन ट्रायल फेज में, 15 को मिल चुकी मंजूरी, वैश्‍विक स्तर पर वैक्सीन की स्थिति देखें

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan 11 Jun, 2021

दुनियाभर में कोरोना महामारी ने बड़ी तबाही मचाई है। इस महामारी को रोकने के लिए वैश्विक स्‍तर पर 15 वैक्‍सीन को इस्‍तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। जिनका इस्‍तेमाल दुनियाभर के कोरोना संक्रमितों पर किया जा रहा है। अभी भी 100 से ज्‍यादा वैक्‍सीन ट्रायल के अलग-अलग फेज में हैं। वहीं, कई देश बच्‍चों की वैक्‍सीन और नेजल वैक्‍सीन पर भी काम कर रहे हैं।

Image courtesy- Reuters


विश्‍वभर में 37 लाख से ज्‍यादा की कोरोना से मौत

दुनियाभर में कोरोना संक्रमण हर तरह से मानव जीवन के लिए खतरा बना हुआ है। वर्ल्‍डोमीटर के आंकड़ों के अनसुार विश्‍वभर में अबतक 17 करोड़ से ज्‍यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। जबकि, 37 लाख से ज्‍यादा लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। अब भी 1 करोड़ से ज्‍यादा एक्टिव केस दुनियाभर में बचे हुए हैं।

110 वैक्‍सीन ट्रायल्‍स के अलग-अलग फेज में
कोरोना को खत्‍म करने के लिए दुनियाभर में 110 से ज्‍यादा वैक्‍सीन बन रही हैं। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स की 10 जून की रिपोर्ट के अनुसार 51 वैक्‍सीन ट्रायल्‍स के फेज-1 में हैं। जबकि, 36 वैक्‍सीन फेज-2 और 30 वैक्‍सीन ट्रायल्‍स के फेज-3 में हैं। वहीं, 4 वैक्‍सीन के ट्रायल्‍स में रिजल्‍ट सही नहीं आने पर रोक लगाई जा चुकी है। भारत, अमेरिका और ब्रिटेन समेत कई देश बच्‍चों की वैक्‍सीन और नेजल वैक्‍सीन का भी परीक्षण कर रहे हैं।

सबसे ज्‍यादा चीन की वैक्‍सीन को एप्रूवल मिला
रिपोर्ट के अनुसार अब तक अलग-अलग फॉर्मा कंपनियों की कुल 15 वैक्‍सीन को इस्‍तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। इनमें से 7 वैक्‍सीन को शुरुआती, सीमित या इमर्जेंसी इस्‍तेमाल की अनुमति मिली है। वहीं, 8 वैक्‍सीन को कोरोना के इलाज में इस्‍तेमाल का फुल एप्रूवल मिल चुका है। फुल एप्रूवल हासिल करने वाली सबसे ज्‍यादा 4 वैक्‍सीन चीन की हैं।


भारत में नेजल और बच्‍चों की वैक्‍सीन पर काम- 

भारत में दो वैक्‍सीन कोवीशील्‍ड और कोवैक्‍सीन का इस्‍तेमाल हो रहा है। जबकि, रूसी वैक्‍सीन स्‍पुतनिक वी को इस्‍तेमाल की अनुमति मिली है। पिछले सप्‍ताह 7 जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्‍ट्र के नाम संबोधन में बताया था कि देश में नेजल वैक्सीन पर अनुसंधान चल रहा है। देश में 7 विभिन्न कंपनियां वैक्सीन का उत्पादन कर रही हैं। अन्य 3 वैक्सीन समेत बच्‍चों की 2 वैक्‍सीन भी ट्रायल्‍स के अलग-अलग फेज में हैं।

Covid-19 Vaccine Tracker Infographic. courtesy- NYT


प्रमुख वैक्‍सीन, जिन्‍हें इस्‍तेमाल की मंजूरी मिली-

ब्रिटेन-जर्मनी- फाइजर-बायोएनटेक वैक्‍सीन, फुल एप्रूव्‍ड
यूएसए- मॉडर्ना वैक्‍सीन, फुल एप्रूव्‍ड
ब्रिटेन- ऑक्‍सफोर्ड आस्‍ट्राजेनेका वैक्‍सीन, फुल एप्रूव्‍ड
रूस- वेक्‍टर इंस्‍टीट्यू वैक्‍सीन, फुल एप्रूव्‍ड
चीन- कैनसिनो वैक्‍सीन, फुल एप्रूव्‍ड
चीन- सीनोफॉर्म वैक्‍सीन, फुल एप्रूव्‍ड
चीन- सीनोवेक वैक्‍सीन, फुल एप्रूव्‍ड
चीन- सीनोफॉर्म वुहान वैक्‍सीन, फुल एप्रूव्‍ड
रूस- गमेलिया वैक्‍सीन, इमर्जेंसी यूज
अमेरिका- जॉनसन एंड जॉनसन वैक्‍सीन, इमर्जेंसी यूज
भारत- भारत बायोटेक वैक्‍सीन, इमर्जेंसी यूज.

 

ये भी पढ़ें – 

जल्द आ सकती है कोरोना की नेजल वैक्सीन, अनुसंधान जारी

25 दिन के शिशु और 99 साल की दादी ने कोरोना को हराया

स्टडी: देश के 50 फीसदी लोग अब भी नहीं पहन रहे मास्क

पहली बार 525 बच्चे कोवैक्सीन ट्रायल का हिस्सा बनेंगे

आंख-नाक के पास इंफेक्शन हो सकता है ब्लैक फंगस, जान लें लक्षण

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *