Menu
blogid : 316 postid : 1394658

वालंटियर्स को लगाई गई कोरोना वैक्सीन पर अहम संकेत मिले, चिकित्सक देख रहे कितने समय में कितना असर करेगा टीका

Rizwan Noor Khan

27 Aug, 2020

भारत में कोरोना वायरस को जड़ से उखाड़ फेंकने के लिए तेजी से कोरोना वैक्सीन विकसित की जा रही है। इस दिशा में किए जा रहे प्रयासों को लगातार सफलता हासिल हो रही है। सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन को देश के 5 लोगों को दी गई है। चिकित्सक मरीजों पर निगरानी रख रहे हैं। शुरुआती परीक्षण में वैक्सीन को लेकर कुछ अहम संकेते मिले हैं। चिकित्सक पता लगा रहे हैं कि वैक्सीन कितनी देर में और कितनी क्षमता के साथ असर करती है।

Image courtesy : REUTERS

 

भारत में बन रहीं 3 कोरोना वैक्सीन
भारतीय चिकित्सा अनुसंधान ICMR के डायरेक्टर बलराम भार्गव ने 25 अगस्त की शाम को ब्रीफिंग में बताया था कि भारत में 3 वैक्सीन विकसित की जा रही हैं। इनमें से सीरम इंस्टीट्यूट एस्टराजेनेका के साथ मिलकर आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन को बना रही है। जबकि भारत बायोटेक और जैडस कैडिला भी एक दूसरे के सहयोग से वैक्सीन विकसित करने में जुटे हैं।

 

सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन के डोज दिए गए
एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक सीरम इंस्टीट्यूट और आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन के डोज 5 लोगों को दिए गए हैं।  26 अगस्त की रिपोर्ट में महाराष्ट्र के मंत्री डॉ. विश्वजीत कदम ने बताया कि पुणे के भारती अस्पताल में एडमिट पांच लोगों को सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन की पहली खुराक दी गई है।

Image courtesy : ANI

 

वैक्सीन लगाने के दो महीने तक होगी निगरानी
रिपोर्ट के मुताबिक डॉ. विश्वजीत कदम ने कहा कि जिन लोगों को सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन दी गई है उन्होंने स्वेच्छा से इसके लिए स्वीकृति दी है। इन लोगों को अगले दो महीने तक मेडिकल निगरानी में रखा जाएगा। सीरम इंस्टीट्यूट और आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन कोवीफील्ड की क्षमता को चिकित्सक परख रहे हैं। ताजा अपडेट में चिकित्सकों ने बताया है कि वैक्सीन पर अहम संकेत मिले हैं।

दुनियाभर में बन रहीं 180 से ज्यादा वैक्सीन
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनियाभर में 180 से ज्यादा आवेदक कोरोना वैक्सीन पर काम कर रहे हैं। इनमें से केवल 7 वैक्सीन अंतिम चरण में हैं, जिसमें से एक सीरम इंस्टीट्यूट और आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन भी शामिल हैं।दुनियाभर में 139 वैक्सीन प्रीक्लीनिकल फेज में हैं। जबकि, 25 फेज 1 और 15 फेज 2 में हैं। अब तक सभी वैक्सीन परीक्षण स्तर पर हैं और कोई भी वैक्सीन एप्रूव नहीं हुई है।..NEXT

 

Read More: जुकाम-खांसी का रामबाण इलाज है शहद, रिसर्च में खुलासा दवा से ज्यादा है असरदार

आक्सीजन सपोर्ट पर हैं 2.62 फीसदी कोरोना मरीज, जानिए कितने पेशेंट आईसीयू में और कितने वेंटीलेटर पर

8 दिन में रिकॉर्ड 3 फीसदी बढ़ा कोरोना रिकवरी रेट, मृत्युदर घटकर नीचे आई

कोरोना फ्री घोषित देशों में फिर से लौट रहा वायरस, अचानक बढ़ने लगे मरीज

दुनिया के 12 देशों की सीमा लांघ नहीं पाया कोरोना, अब तक नहीं मिला एक भी मरीज

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *