Menu
blogid : 316 postid : 1391337

खराब खाना खाकर हर साल मर रहे सवा लाख बच्‍चे, भारत के कई शहरों की हालत खराब

Rizwan Noor Khan

10 Dec, 2019

जिंदा रहने के लिए तीन चीजें महत्‍वपूर्ण हैं हवा, पानी और भोजन। लेकिन अगर इनमें कोई भी एक खराब चीज का सेवन कर रहे हैं तो आप मौत की ओर बढ़ रहे हैं। ऐसा हम नहीं बल्कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की रिपोर्ट कह रही है। दूषित भोजन की वजह से दुनियाभर में हर साल सवा लाख बच्‍चों की मौत हो रही है। भारत के कई शहरों में दूषित सब्जियों, फलों और खाने को अनजाने में लोग खा रहे हैं।

 

 

 

 

चिकित्‍सक सेहतमंद स्‍वास्‍थ्‍य के लिए पौष्टिक आहार, फल और सब्जियों के सेवन की सलाह देते हैं। लेकिन, बदल रही आबोहवा के चलते कुछ भी स्‍वच्‍छ नहीं रह पा रहा है। बड़ी मात्रा में भोजन, फल, सब्जियों के अलावा अन्‍य दूषित खाद्य पदार्थों के सेवन से सालाना 420000 लाख लोगें की मौत हो रही है।

 

 

 

डब्‍ल्‍यूएचओ की ताजा रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि दुनियाभर में लोग बड़ी मात्रा में दूषित खाद्य पदार्थों का सेवन कर रहे हैं। इसी वजह से विश्‍व का हर दसवां आदमी गंभीर बीमारी की चपेट में आता जा रहा है। दुनियाभर के 60 करोड़ लोग जानलेवा बीमारी के शिकार हो चुके हैं।

 

 

रिपोर्ट के मुताबिक 5 साल से कम उम्र के 40 फीसदी बच्‍चे दूषित भोजन की वजह से हैजा, न्‍यूमोनिया, डायरिया समेत कई घातक बीमारियों का शिकार बचपन में ही हो जा रहे हैं। हर साल 125000 बच्‍चों की दूषित खाने की वजह से मौत हो जा रही है।

 

 

Image

 

 

विशेषज्ञों बताते हैं कि बाजार में फलों और सब्जियों को ऊंचे दामों में बेचने के लिए समय से पहले पकाया और विकसित किया जा रहा है। इसके लिए खतरनाक केमिकल्‍स, पेस्‍टीसाइड और ऑक्‍सीटोसिन जैसे घातक रसायनों का उपयोग हो रहा है। दिल्‍ली, मुंबई, कोलकाता, पटना जैसे कई शहरों में ऐसे रसायनों का इस्‍तेमाल धड़ल्‍ले से किया जा रहा है। ऐसे में सतर्कता बरतते हुए बेमौसम आई सब्‍जी या फल का सेवन नहीं करना चाहिए।…Next

 

 

Read More:

हैंगओवर की दवा बनाने के लिए 1338 दुर्लभ काले गेंडों का शिकार, तस्‍करी से दुनियाभर में खलबली

3 करोड़ से ज्‍यादा लोग एचआईवी पॉजिटिव, झारखंड में 23 हजार लोग इस जानलेवा बीमारी के शिकार

सर्दियों में इन दो वस्‍तुओं को खाया तो जा सकती है जान, आपके लिए ये बातें जानना जरूरी

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *