Menu
blogid : 316 postid : 1396830

35 हजार में कोरोना की दवा बेच रहा डॉक्टर गिरफ्तार, राजस्थान और हरियाणा में चोरी हो चुकी हैं 2100 वैक्सीन

Rizwan Noor Khan

22 Apr, 2021

कोरोना महामारी के दौरान जमाखोर सक्रिए हो गए हैं। सप्‍ताह भर पहले राजस्‍थान के जयपुर में हास्पिटल से वैक्‍सीन के 300 से ज्‍यादा डोज चोरी होने की घटना सामने आई थी। आज सुबह 22 अप्रैल को हरियाणा के एक सेंटर से 1700 से ज्‍यादा वैक्‍सीन चोरी हो गई हैं। दोनों मामलों में जांच चल रही है। इस बीच महंगे दामों में कोरोना की दवा बेच रहे डॉक्‍टर समेत दो जमाखोरों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

उदयपुर में रेमेडेसिविर इजेंक्‍शन को बेचने वाले डॉक्‍टर और मेडिकल स्‍टूडेंट पुलिस टीम की गिरफ्त में। तस्‍वीर- एएनआई।

जयपुर में चोरी हुई वैक्‍सीन की जांच जारी
राजस्‍थान के जयपुर में शास्‍त्रीनगर स्थित हॉस्पिटल से 14 अप्रैल को वैक्‍सीन चोरी होने का सनसनीखेज मामला सामने आया था। अस्‍पताल प्रशासन ने पुलिस में मामला दर्ज कराते हुए बताया था कि अस्‍पताल से भारत बायोटेक की कोवैक्‍सीन के 32 वायल चोरी हो गए हैं। एक वायल में 10 डोज होते हैं। इस तरह कुल 320 डोज वैक्‍सीन चोरी हुई थी।

हरियाणा के जींद में 1710 वैक्‍सीन चोरी
राजस्‍थान में वैक्‍सीन चोरी का मामला ठंडा होने से पहले ही हरियाणा के जींद जिले के एक सेंटर से 22 अप्रैल को 1710 वैक्‍सीन चोरी हो गईं। एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक जींद के सिविल अस्पताल के पीपी सेंटर से कोरोना वायरस की 1710 वैक्सीन चोरी हुईं। जींद के स्वास्थ्य निरीक्षक राम मेहरा वर्मा ने बताया कि अलमारियों के ताले टूटे हैं और वैक्सीन चोरी हुई हैं।

सरकारी अस्‍प्‍ताल से जरूरी फाइलें भी ले उड़े चोर
स्वास्थ्य निरीक्षक ने कहा कि 1270 कोविशील्ड वैक्‍सीन और 440 कोवैक्सीन चोरी हुई हैं। उन्‍होंने कहा कि इसके साथ ही कुछ फाइलें भी चोरी हुई हैं। वैक्सीन चोरी होने के मामले की पुलिस जांच कर रही है। एएनआई के मुताबिक जींद के डीआईजी ने बताया कि हम CCTV फुटेज देख रहे हैं। प्रथम दृष्टया लग रहा है कि ये किसी जानकार का काम है।

हरियाणा में जींद के अस्‍पताल में वैक्‍सीन चोरी मामले की जांच करने पहुंचे अधिकारी। तस्‍वीर- एएनआई।

उदयपुर में कालाबाजारी कर रहे दो अरेस्‍ट
राजस्‍थान और हरियाणा में चोरी का मामले की जांच चल रही है। इस बीच राजस्‍थान के उदयपुर पुलिस ने कोरोना के इलाज में काम आने वाले रमे‍डेसिविर इजेंक्‍शन की कालाबाजारी कर रहे दो लोगों को गिरफ्तार किया है। उदयपुर में निजी अस्पताल के डॉक्टर और एक मेडिकल छात्र को रेमडेसिविर की कालाबाजारी करते रंगेहाथ पकड़ा गया है।

उदयपुर में रेमेडेसिविर इजेंक्‍शन को 35 हजार में बेचने वाले डॉक्‍टर और मेडिकल स्‍टूडेंट पुलिस टीम की गिरफ्त में। तस्‍वीर- एएनआई।

35 हजार में बेच रहा था रेमेडेसिविर इंजेक्‍शन
पुलिस के मुताबिक सूचना मिली थी कि इलाके में कोरोना की दवा की कालाबाजी चल रही है। इस पर हमने एक ग्राहक बनाकर कालाबाजारी कर रहे संदिग्‍ध के पास भेजा था। जमाखोर ने उस ग्राहक के साथ एक रेमडेसिविर इंजेक्शन 35,000 रुपये में देने का सौदा तय हुआ। मौका मिलते ही कालाबाजारी कर रहे डॉक्‍टर और मेडिकल छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

 

ये भी पढ़ें : मनुष्‍य के बाद पहली बार 9 गोरिल्‍ला को लगी कोरोना वैक्‍सीन

2 अरब लोग दूषित पानी पीने को मजबूर, पढ़ें धरती के पानी पर रिपोर्ट

आईपीएल में कब कौन सा मैच किसके साथ होगा, देखें फुल शिड्यूल 

3 महीने में 15 क्रिकेटर कोरोना पॉजिटिव, सचिन भी शामिल 

एक्टर बनने से पहले सेल्‍समैन थे अरशद वारसी, डांस ने बदली किस्‍मत

Read Comments

Post a comment