Menu
blogid : 316 postid : 1394786

फेक कोरोना रिपोर्ट जारी कर ऐंठते थे मोटी रकम, रूस से पढ़े डॉक्टर समेत गैंग के 3 जालसाज गिरफ्तार

Rizwan Noor Khan

4 Sep, 2020

कोरोना महामारी के दौरान लोगों से पैसा ऐंठने के लिए कुछ लोगों ने चिकित्सा क्षेत्र को अपने गलत कार्यों से बदनाम कर दिया है। दिल्ली में एक ऐसे गिरोह का भंडाफोड़ हुआ ​जो लोगों की फर्जी कोरोना रिपोर्ट जारी करता था। इस गिरोह का मुखिया ने रूस से डॉक्टरी की पढ़ाई की है।

दिल्ली में फेक कोरोना रिपोर्ट जारी करने वाले गैंग का सरगना पुलिस की गिरफ्त में। Image courtesy : ANI

 

कोरोना को अवसर में बदल ऐंठ रहे थे पैसा
कोरोनाकाल को कुछ लोगों अपनी जेब भरने का अवसर बनाने का काम किया है। लेकिन, वह जल्द ही पुलिस के हत्थे चढ़ गए हैं। एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली पुलिस ने तीन लोगों को फर्जी कोरोना रिपोर्ट जारी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। तीनों आरोपी लोगों से कोरोना जांच के नाम पर पैसा ऐंठते थे और बिना जांच किए ही जाली रिपोर्ट थमा देते थे।

4-5 लैब्स के नाम से जारी करते थे फर्जी रिपोर्ट
साउथ दिल्ली के डीसीपी के मुताबिक आरोपी तीनो व्यक्ति दिल्ली की 4-5 नामी पैथोलॉजी लैब्स के नाम पर फर्जी कोरोना रिपोर्ट जारी करने का गिरोह चला रहे थे। जब पुलिस को मामले की सूचना मिली तो मौके पर जाकर तीनों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक तीनों आरोपियों ने अपना जुर्म स्वीकार किया है।

दिल्ली में 75 फेक कोरोना रिपोर्ट जारी कर मोटी कमाई करने वाले तीनों आरोपी पुलिस की गिरफ्त में। Image courtesy : ANI

रूस से एमबीबीएस की डिग्री लेकर कर रहा जालसाजी
रिपोर्ट के मुताबिक गिरफ्तार डॉक्टर कुश पाराशर ने रूस से एमबीबीएस की डिग्री हासिल की है। कोरोना के दौरान मोटा पैसा बनाने के लिए दो और साथियों अमित और सोनू को भी फर्जी कोरोना रिपोर्ट बनाने के काम में शामिल ​कर लिया। डॉक्टर कुश ने माना कि वह लोगों के सैंपल लेकर उन्हें नष्ट कर देता था।

दिल्ली में फेक कोरोना रिपोर्ट जारी करने के खुलासे की जानकारी देते पुलिस अधिकारी। Image courtesy: ANI

75 फर्जी कोरोना रिपोर्ट जारी कर दीं
पुलिस के मुताबिक इस गिरोह ने अब तक करीब 75 फर्जी कोरोना रिपोर्ट जारी की हैं। तीनों आरोपियों पर अलग अलग धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। इनके गिरोह में शामिल अन्य लोगों के बारे में पूछताछ जारी है। इसके साथ ही कुछ पैथोलॉजी सेंटर्स पर निगरानी बढ़ा दी गई है।

बांग्लादेश में भी पकड़ा गया था ऐसा ही मामला
गौरतलब है कि ऐसा ही मामला बांग्लादेश में भी सामने आ चुका है। ढाका में लैब और अस्पताल के मालिक डॉक्टर मोहम्मद शाहेद ने कोरोना की 6300 निगेटिव रिपोर्ट जारी कर दीं थी। मामले खुलने पर वह अस्पताल से फरार हो गया और 9 दिन बाद भारतीय सीमा में अवैध तरीके से घुसने के दौरान पकड़ा गया।…NEXT

 

Read More:  सभी रिकॉर्ड ध्वस्त, 24 घंटे में 83 हजार नए केस मिले

40 फीसदी लोगों को इस साल कोरोना वैक्सीन आने की उम्मीद

कोरोना के इलाज में फेल हुई दवा, ट्रायल्स में नहीं मिली सफलता

म्यूजियम से 132 करोड़ की पेंटिंग चोरी

भारत में 3 वैक्सीन पर हो रहा ट्रायल, एक फाइनल फेज में

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *