Menu
blogid : 316 postid : 1397152

आंख-नाक के पास इंफेक्शन दिखे तो ना करें लापरवाही, हो सकता है ब्लैक फंगस, जान लें लक्षण

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan 20 May, 2021

कोरोना वायरस के बाद फंगल इंफेक्‍शन के तेजी से बढ़ते मामले चिंता का कारण बन गए हैं। विशेषज्ञों ने बताया है कि नाक, आंख के पास इंफेक्‍शन दिखने पर लापरवाही न बरती जाए। यह फंगल इंफेक्‍शन यानी ब्‍लैक फंगस भी हो सकता है। ब्‍लैक फंगस बेहद खतरनाक और जानलेवा बीमारी है। राजस्‍थान सरकार ब्लैक फंगस को महामारी घोषित कर चुकी है। जबकि तमिलनाडु ने इसे नोटिफाइड डिजीज घोषित किया है।

Symbolic image courtesy- Reuters

राजस्‍थान में ब्‍लैक फंगस महामारी घोषित
राजस्‍थान, बिहार, उत्‍तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, दिल्‍ली, हिमाचल प्रदेश और तमिलाडु समेत कई राज्‍यों में ब्‍लैक फंगस (म्यूकोर्माइकोसिस) के मामले सामने आ चुके हैं। एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक बीते दिन दिल्‍ली के एम्स में 75-80 मामले, मैक्स अस्पताल में 50 मामले, इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में 10, सर गंगाराम अस्पताल में 40 से ज्‍यादा मामले दर्ज किए गए। उत्‍तर प्रदेश के अलीगढ़ में भी मामले आ चुके हैं।

हरियाणा और पंजाब में मिले केस
हरियाणा के सिरसा में सिविल सर्जन मनीष बंसल ने एएनआई को बताया कि हमारे पास 5 मामलों की सूचना है जिनकी मौत हो गई है। यह फंगल इंफेक्शन (ब्लैक फंगस) है। कोरोना के बाद इसके ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं। पंजाब के अमृतसर में सिविल सर्जन डॉक्‍टर चरणजीत सिंह ने कहा कि ब्लैक फंगस के 17 मामले आए हैं, जो 5-6 अस्पतालों में दर्ज किए गए हैं।

कारगर दवा का बढ़ाया गया उत्‍पादन
केंद्रीय राज्‍यमंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि ब्लैक फंगस (म्यूकोर्माइकोसिस) का इलाज करने वाली दवा एम्फोटेरिसिन बी की कमी को जल्द दूर किया जाएगा। 3 दिनों में मौजूदा 6 फार्मा कंपनियों के अलावा 5 और फार्मा कंपनियों को इसके उत्पादन के लिए स्वीकृति मिली है। मौजूदा फार्मा कंपनियों ने पहले से ही उत्पादन बढ़ाना शुरू कर दिया है। भारतीय कंपनियों ने एम्फोटेरिसिन बी की 6 लाख वायल के आयात के ऑर्डर भी दिए हैं।

पहले से बीमार लोगों को ज्‍यादा खतरा
सिविल सर्जन ने बताया कि ब्‍लैक फंगस से ग्रसित शख्‍स को नाक के आस-पास इंफेक्शन हो जाता है जो बाद में आंख तक पहुंच जाता है। यह तेजी से बढ़ता है और बाद में दिमाग में चला जाता है जो जानलेवा है। ये उन लोगों में ज्‍यादा देखा जा रहा है जिन्हें मधुमेह है या जो लंबे समय तक अस्पताल में रहे हैं और स्‍टेरॉइड्स का ज्यादा इस्तेमाल किया है।

ब्‍लैक फंगस के लक्षण
नाक के पास अत्‍यधिक खुजली, चकत्‍ते या इंफेक्‍शन
नाक का बंद होना
नाक से खून बहना
सिरदर्द या आंखों में दर्द
आंखों के आसपास सूजन
कोई वस्‍तु दो-दो दिखाई देना या धुंधला दिखना
आखों का लाल होना और बंद करने में दिक्‍कत
चेस्‍ट और शरीर दुखना आदि

 

Disclaimer: Story tips and suggestions are for general information. Do not take them as advice from any doctor or medical professional. In the case of symptoms of illness or infection, consult a doctor.

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *