Menu
blogid : 316 postid : 1396112

भारत ने 4 देशों को कोरोना वैक्‍सीन के लाखों डोज दिए, अफगानिस्‍तान समेत ये देश वैक्‍सीन के इंतजार में

Rizwan Noor Khan

21 Jan, 2021

दुनिया के सबसे बड़े कोरोना वैक्‍सीन निर्माता देशों में शामिल भारत ने अपने पड़ोसी देशों की मदद के लिए कोरोना वैक्‍सीन के डोज पहुंचाने शुरू कर दिए हैं। अब तक 4 देशों को वैक्‍सीन के कई लाख डोज पहुंचाए जा चुके हैं। जबकि,अफगानिस्‍तान, श्रीलंका समेत 5 से ज्‍यादा देश भारत से वैक्‍सीन मिलने के इंतजार में हैं।

पड़ोसी पहले की नीति के तहत मदद शुरू
भारत ने कोरोना के इलाज में कारगर वैक्‍सीन कोवीशील्‍ड और कोवैक्‍सीन को मंजूरी जनवरी के पहले सप्‍ताह में दे दी थी। मंजूरी के बाद से कई देश वैक्‍सीन हासिल करने के लिए भारत से संपर्क में थे। पड़ोसी पहले की नीति के तहत भारत ने 20 जनवरी से इन देशों की मदद के लिए वैक्‍सीन आपूर्ति शुरू कर दी है।

भूटान और मालदीव को मिली भारतीय वैक्‍सीन
एएनआई के अनुसार 20 जनवरी को पड़ोसी देश मालदीव और भूटान के लिए कोवीशील्‍ड वैक्‍सीन की पहली खेप रवाना की गई थी। इसमें से भूटान को 150,000 डोज और मालदीव को 100000 डोज की आपूर्ति की गई थी।

30 लाख डोज नेपाल और बांग्‍लादेश पहुंचे
21 जनवरी को पड़ोसी देश बांग्‍लादेश और नेपाल को भी वैक्‍सीन की आपूर्ति की गई। बांग्‍लादेश को कोवीशील्‍ड के 20 लाख डोज दिए गए हैं। वहीं, नेपाल को 10 लाख डोज उपलब्‍ध कराए गए हैं। दोनों देशों के लिए हवाई मार्ग से वैक्‍सीन के कंसाइनमेंट रवाना किए गए।

5 देश भारतीय वैक्‍सीन के इंतजार में
अब वैक्‍सीन पाने के लिए कई देश लाइन में हैं। भारतीय वैक्‍सीन की अगले खेप श्रीलंका, म्‍यांमार, अफगानिस्‍तान, सेचेल्‍स और मॉरीशस के लिए रवाना होनी है। इन देशों के लिए वैक्‍सीन का कंसाइनमेंट किसी भी दिन रवाना किया जा सकता है।

भारत पहले भी कर चुका है मदद
कोरोना महामारी के दौरान भी भारत ने अपने पड़ोसी देशों के अलावा करीब 150 देशों को हाइड्रोक्‍सीक्‍लोरोक्‍वीन, पैरासीटामॉल, रेमेडिसिविर, वेंटीलेटर, पीपीई किट समेत कई तरह के मेडिकल उपकरण और सामान भेजकर मदद पहुंचा चुका है।…NEXT

 

ये भी पढ़ें: अब तक कितने लोगों को लगी कोरोना वैक्‍सीन, जानें

7 महीने में पहली बार सबसे कम सिर्फ 10 हजार मरीज मिले 

वैक्‍सीन से जुड़े सभी सवालों के जवाब यहां जानें 

साल 2021 में जनवरी से दिसंबर तक सेहतमंद रहने के 12 तरीके

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *