Menu
blogid : 316 postid : 1396370

9 माह बाद पतंजलि की कोरोनिल दवा दोबारा लॉन्‍च, 150 देशों में बेचने की अनुमति मिली

बाबा रामदेव ने पतंजलि की कोरोना दावा कोरोनिल को दोबारा लॉन्‍च कर दिया है। बाबा रामेदव ने कहा कि कोरोना के इलाज में कारगर कोरोनिल दवा को भारत समेत 150 देशों में बेचने की अनुमति मिली है। बता दें कि 9 माह पहले लॉन्‍च की गई इस दवा के दावों को लेकर जमकर हंगामा हुआ था। इसके बाद दवा की बिक्री पर रोक लगा दी गई थी।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan19 Feb, 2021
Image courtesy: ANI

विवाद के बाद दवा पर लगी थी रोक
करीब 9 माह पहले जून 2020 में पतंजलि योगपीठ के बाबा रामदेव ने कोरोननिल किट लॉन्‍च की थी। दावा किया गया था कि को‍रोनिल दवा कोरोना के इलाज में कारगर है। उस वक्‍त पतंजलि ने दावा किया था कि दवा से सिर्फ ​3 दिन में ही 69 प्रतिशत कोरोना मरीज ठीक हो गए और 7 दिन में 100% कोरोना मरीज ठीक हो गए। इस दावे के बाद दवा पर विवाद शुरू हो गया था। बाद में आयुष मंत्रालय ने दवा पर रोक लगा दी थी।

बाबा रामदेव ने दोबारा लॉन्‍च की दवा
एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार 19 फरवरी को बाबा रामदेव ने दवा कोरोनिल को दोबारा लॉन्‍च किया है। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉक्‍टर हर्षवर्धन और नितिन गडकरी की मौजूदगी में बाबा रामदेव ने दवा का शोधपत्र भी जारी किया। बाबा रामदेव ने कहा कि कोरोनिल दवा को 100 से ज्‍यादा वैज्ञानिकों ने रिसर्च और अध्‍ययन के बाद तैयार किया है।

कोरोना के इलाज में कारगर होने का दावा
योग गुरु रामदेव ने कहा कि हमने रिसर्च और एविडेंस के साथ साबित कर दिया कि कोरोनिल एक साथ कोरोना की रोकथाम, इलाज, कोरोना के बाद के प्रभाव और कोरोना की जटिलताओं से निपटने के लिए एक साथ काम करती है। इसे पूरे देश और दुनिया ने माना है। उन्‍होंने कहा कि अब हमें 150 से ज्‍यादा देशों में कोरोनिल दवा बेचने की अनुमति है।

Image courtesy: ANI

ये दवाएं भी लॉन्‍च हुईं
बाबा रामदेव ने कोरोनिल के साथ पतंजलि की कई और दवाओं को लॉन्‍च किया गया। इनमें श्वासारी, पीड़ानिल, मधुग्रिट, आर्थोग्रिट, मुक्तावटी, मधुनाशिनी, इम्यूनोग्रिट, थायरोग्रिट, सिस्टोग्रिट, प्रोस्टोग्रिट आदि शामिल हैं।

 

ये भी पढ़ें: बाबा रामदेव बोले- कोरोनिल के ट्रायल डाटा भर से तूफान उठ गया

34 दिन में रिकॉर्ड 1 करोड़ लोगों को लगी कोरोना वैक्‍सीन

बरेली को खोया झुमका मिलने के बाद पीलीभीत को मिली बांसुरी

Read Comments

    Post a comment

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    CAPTCHA
    Refresh