Menu
blogid : 316 postid : 1395018

डरें नहीं, जब प्रिमेच्योर बेबी कोरोना को हरा सकता है तो आप क्यों नहीं

Rizwan Noor Khan

25 Sep, 2020

न्यूबॉर्न बेबी को इस दुनिया में पहली सांस लेते ही कोरोना वायरस ने जकड़ लिया। वह समय से पहले पैदा हुआ और सामान्य वजन से भी बहुत कम था। उसके माता—पिता समेत उसका इलाज कर रहे डॉक्टरों तक को पक्का यकीन नहीं था कि वह उसे बचा पाएंगे। लेकिन, उनकी उम्मीद और बच्चे की जीने की चाहत ने उसे कोरोना महामारी से बचा लिया। बच्चे ने कोरोना को हरा दिया। वह अब पूरी तरह ठीक है। जब एक नन्हीं सी जान कोरोना को हरा सकती है तो आप क्यों नहीं। इसलिए कोरोना से डरें नहीं। बस सावधानी, स​तर्कता, इलाज, हौसला और उम्मीद को कम न होने दें।

Symbolic Image from Pixabay.

पहली सांस के साथ महामारी का हमला
स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार प्रिमेच्योर डिलिवरी के बाद नवजात को बैंगलुरू के वानी विलास हॉस्पिटल में सितंबर में रेफर किया गया था। स्वस्थ बच्चे का औसत वजन 2.8 या 2.9 किलोग्राम होना चाहिए, लेकिन यह बच्चा मात्र 980 ग्राम का था। समय से पहले पैदा हुए इस बच्चे की जांच में वह कोरोना वायरस के एसिम्प्टोमेटिक लक्षणों से ग्रसित पाया गया।

चिकित्सकों के लिए चैलेंज बना था केस
पैदा होते ही स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जूझ रहे नवजात को बचाने के लिए डॉक्टरों की टीम ने जीजान लगा दी। बच्चे को आइसोलेशन में रखा गया। बैंगलुरू मेडिकल कॉलेज में पीडियाट्रिक विभाग के प्रमुख डॉक्टर मल्लेश के ने बताया कि नवजात को ब्लड प्रेशर, कैल्शियम लेवल जैसी कई तरह की समस्याएं होने लगी थीं।

नवजात ने कोरोना दे दी शिकस्त
चिकित्सकों की मेहनत से बच्चे ने कोरोना वायरस को हरा दिया और 15 सितंबर को डिस्चार्ज के समय उसका वजन भी 980 ग्राम से 1.2 किलोग्राम हो गया। नवजात की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद चिकित्सक और स्टाफ खुशी से झूम उठे। बच्चे की आंखों, वजन और अन्य जांचों के लिए समय समय पर अस्पताल में बुलाया गया है। वह अब पूरी तरह ठीक है।

आप हौसला रखें, कोरोना को हरा पाएंगे
चिकित्सकों का कहना है कि 110 साल की उम्र के बुजुर्ग और प्रिमेच्योर नवजात बच्चे को कोरोना से रिकवर करने में सफलता हासिल हुई है। जब एक बच्चा और बुजुर्ग कोरोना को मात दे सकता है तो युवा और 30 की उम्र पार कर चुके लोगों को हौसला कम नहीं करना चाहिए। कोरोना से डरना नहीं चाहिए। बस जरूरत है सावधानी और स​तर्कता की।…NEXT

 


Read More: यूपी के 10 हजार पुलिसकर्मी हो चुके हैं कोरोना संक्रमित

नाक और मुंह मास्क से ढंके होने पर आंखों से एंट्री ले सकता है कोरोना

कोरोना वैक्सीन से खतरनाक साइड इफेक्ट के बाद परीक्षण रद

फेक कोरोना रिपोर्ट जारी कर ऐंठते थे मोटी रकम, डॉक्टर समेत 3 गिरफ्तार

इस गांव में 16 अगस्त तक एक भी मरीज नहीं था पर अब हर चौथा शख्स पॉजिटिव

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *