Menu
blogid : 316 postid : 1395211

सिर्फ 12 फीसदी लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवाने में दिलचस्पी, 10 फीसदी लगवाना ही नहीं चाहते

Rizwan Noor Khan

23 Oct, 2020

दुनियाभर के साथ भारत के लिए मुसीबत बनी कोरोना महामारी को खत्म करने के लिए तमाम देश और दवा कंपनियां कोरोना वैक्सीन बनाने में जुटे हैं। कई देशों में वैक्सीन को लेकर लोगों में काफी उत्साह है। भारत में 10 फीसदी लोग कोरोना वैक्सीन आने के बाद भी लगवाना नहीं चाहते हैं और सिर्फ 12 फीसदी को वैक्सीन लगवाने में दिलचस्पी है।

विश्वभर में विकसित हो रहीं 137 वैक्सीन
विश्वभर में तकरीबन 137 से ज्यादा कोरोना वैक्सीन वि​कसित की जा रही हैं। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक 33 वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के फेज 1 में हैं, जबकि 15 फेज 2 और 11 वैक्सीन ट्रायल्स के अंतिम चरण यानी फेज 3 में हैं। 6 वैक्सीन को सीमित मात्रा में शुरुआती इस्तेमाल के लिए मंजूरी भी दी जा चुकी है। किसी भी वैक्सीन को अभी तक एप्रूवल नहीं मिला है।

25 हजार लोगों पर सर्वे के नतीजे चौंकाने वाले
कोरोना वैक्सीन आने के बाद लोग इसे लगवाकर पहले की तरह जिंदगी में वापस लौटना चाहेंगे या नहीं और वैक्सीन लगवाने के बारे में लोगों की धारणा क्या है, इस बारे में लोकलसर्कल ने देश के 25 हजार लोगों से सवाल किए। सर्वे में काफी चौंकाने वाले रिजल्ट सामने आए हैं।

61 फीसदी लोग टीका लगवाने को लेकर उलझन में
सर्वे के मुताबिक 61 फीसदी लोग कोरोना वैक्सीन लगवाने को लेकर उलझन में हैं। कोरोना को लेकर तमाम तरह की खबरों से प्रभावित यह लोग 2021 में टीका आने के बाद भी लगवाने में जल्दबाजी नहीं करना चाहते हैं। सर्वे का यह आंकड़ा दर्शाता है कि वैक्सीन को लेकर लोगों के बीच भरोसा थोड़ा कम है।

देश के 225 जिलों में किया गया सर्वे
देश के 225 जिलों के लोगों पर किए गए सर्वे के अनुसार सिर्फ 12 प्रतिशत लोगों ने कोरोना वैक्सीन लगवाने में दिल्चस्पी रखते हैं और टीका लगवाकर पहले की ​तरह जिंदगी जीना चाहते हैं। 25 फीसदी लोग कोरोना वैक्सीन तो लगवाएंगे, लेकिन वह अभी पहले की तरह जीवनशैली में नहीं लौटना चाहते हैं।

10 फीसदी लोग वैक्सीन लगवाना ही नहीं चाहते
सर्वे में यह भी खुलासा हुआ है कि 10 प्रतिशत लोग 2021 में वैक्सीन आने के बाद भी इसे लगवाने के इच्छुक नहीं हैं। यह लोग टीका नहीं लगवाना चाहते हैं। बता दें कि ब्राजील में आस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन के ट्रायल्स में शामिल शख्स की मौत हो गई है, जबकि उससे पहले वैक्सीन के साइड इफेक्ट सामने आए थे। संभव है कि ऐसी सूचनाओं से लोगों में टीके के प्रति भरोसे में कमी आ रही है।…NEXT

 

Read More: ब्राजील में कोरोना वैक्सीन वॉलंटियर की मौत

भारत की मदद से 150 देश कोरोना संक्रमण थामने में कामयाब

इन 10 देशों में एक भी कोरोना मरीज की मौत नहीं

यूपी के 10 हजार पुलिसकर्मी हो चुके हैं कोरोना संक्रमित

नाक और मुंह मास्क से ढंके होने पर आंखों से एंट्री ले सकता है कोरोना

इस गांव में 16 अगस्त तक एक भी मरीज नहीं था पर अब हर चौथा शख्स पॉजिटिव

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *