Menu
blogid : 316 postid : 1397195

18 राज्यों में ब्लैक फंगस के 5 हजार से ज्यादा मामले, गुजरात समेत 6 प्रदेशों में सर्वाधिक केस

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan 24 May, 2021

कोरोना महामारी के दौरान ब्‍लैक फंगस नामक बीमारी ने लोगों को अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है। अभी इसके इलाज और रोकथाम पर विशेषज्ञा नीतियां बना रहे थे कि अब ह्वाइट और येलो फंगस के भी कुछ मामले सामने आ गए हैं। येलो फंगस को बाकी दोनों से बेहद खतरनाक बताया जा रहा है। येलो फंगस का यूपी के गाजियाबाद में केस सामने आया है।

55 फीसदी मामलों में मधुमेह से ग्रसित थे मरीज
देश के कई इलाकों में ब्‍लैक फंगस यानी म्यूकर माइकोसिस के मामले दर्ज किए जा रहे हैं। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉक्‍टर हर्षवर्धन ने एएनआई को बताया कि 24 मई की सुबह तक 18 राज्यों में ब्लैक फंगस के 5,424 मामले दर्ज किए गए हैं। 5,424 मामलों में से 4,556 मामलों में पहले कोविड संक्रमण था और 55% मरीज मधुमेह से पीडि़त थे।

6 राज्‍यों में सबसे ज्‍यादा ब्‍लैक फंगस के केस
स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि देश के 6 राज्‍यों में सबसे ज्‍यादा ब्‍लैक फंगस के केस दर्ज किए गए हैं। सुबह की रिपोर्ट के अनुसार ब्‍लैक फंगस के 2,165 केस गुजरात में दर्ज किए गए हैं। इसके बाद महाराष्ट्र में 1,188, उत्तर प्रदेश में 663, मध्य प्रदेश में 519, हरियाणा में 339 और आंध्र प्रदेश में 248 मामले दर्ज किए गए हैं। एमपी के मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि दोपहर तक इंदौर में ब्‍लैक फंगस के 330 मरीज मिले हैं।

यूपी में येलो फंगस का केस सामने आया
एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार उत्‍तर प्रदेश के गाजियाबाद में इएनटी स्पेशलिस्ट डॉक्‍टर बीपी. त्यागी ने बताया कि बीते दिन संजय नगर से मेरे पास एक 45 वर्षीय मरीज आया। एंडोस्कोपी टेस्ट में पता चला की उसे ब्लैक, व्हाइट और येलो फंगस है। उन्‍होंने कहा कि येलो फंगस रेप्टाइल्स में पाया जाता है, पहली बार मैंने इसे इंसानों में देखा है। ब्‍लैक और ह्वाइट फंगस के मुकाबले येलो फंगस ज्‍यादा खतरनाक बताया जा रहा है।

ह‍्वाइट से ज्‍यादा खतरनाक ब्‍लैक फंगस
दिल्‍ली के LNJP हॉस्पिटल के एमडी डॉ. सुरेश कुमार ने बताया कि ब्लैक फंगस खतरनाक फंगस है जो कि उनमें होता है जिनकी इम्यूनिटी कमजोर होती है या जो डायबिटीज के मरीज़ हैं। स्टिरॉयड से ब्लड शुगर बढ़ता है और ब्लड शुगर बढ़ने से ये फंगस हवा में होता है और सांस के माध्यम से अंदर चला जाता है। विशेषज्ञों के मुताबिक ह्वाइट फंगस ब्‍लैक की अपेक्षा कम खतरनाक है।

फेफड़े और किडनी के लिए घातक
डॉ. सुरेश कुमार ने कहा कि ब्‍लैक फंगस आगे जाकर फेफड़े और पूरे शरीर में फैल जाता है, किडनी को भी नुकसान पहुंचाता है। कई बार इतनी तेजी से फैलता है कि मरीज की मौत हो जाती है। इससे बचाव के लिए ब्लड शुगर नियंत्रित रखें, स्टिरॉयड बिना डॉक्टर की सलाह के न लें, मास्क हमेशा साफ करें और ड्राई ऑक्सीजन न लें।

फंगस के सामान्‍य लक्षण
नाक के पास अत्‍यधिक खुजली, चकत्‍ते या इंफेक्‍शन
नाक का बंद होना
नाक से खून बहना
सिरदर्द या आंखों में दर्द
आंखों के आसपास सूजन
कोई वस्‍तु दो-दो दिखाई देना या धुंधला दिखना
आखों का लाल होना और बंद करने में दिक्‍कत
चेस्‍ट और शरीर दुखना आदि

नोट- किसी भी तरह के लक्षण सामने आने पर तत्‍काल चिकित्‍सक से संपर्क करें। खुद से दवा इलाज करने की कोशिश ना करें।

 

Read more: 

मनुष्‍य के बाद पहली बार 9 गोरिल्‍ला को लगी कोरोना वैक्‍सीन

विश्‍व में 2 अरब लोग दूषित पानी पीने को मजबूर

गिद्ध पक्षी के लिए 10 साल बाद दूसरी दवा पर बैन लगा

दो जीराफ ने दुनियाभर के पशुविज्ञानियों की नींद उड़ाई

सबसे ज्यादा विश्व की ऐतिहासिक धरोहरें इस देश में, जानें

Read Comments

Post a comment