Menu
blogid : 316 postid : 835745

इस अनोखी कमेंट्री ने छुड़ाया गांववालों की खुले में शौच करने की आदत

पौ फटने में अभी कुछ वक्त बाकी है और मध्यप्रदेश के इस गांव में लाउडस्पीकर पर यह अनोखी लाईव कमेंट्री शुरू हो गई है, “अभी-अभी मुहल्ले में रहने वाले अवधेश (काल्पनिक नाम) को हाथों में पानी से भरा बोतल लेकर खेतों की तरफ जाते हुए देखा गया है. वह बड़ी तेजी से दूसरे मुहल्ले के मुकेश (काल्पनिक नाम) की खेतों की तरफ बढ़ रहे हैं… .” चौंकिए मत, यह कोई मजाक नहीं है. दरअसल मध्यप्रदेश के बैतूल जिले की एक पंचायत ने लोगों की खुले में शौच करने की प्रवृति पर लगाम लगाने के लिए यह अनोखा उपाय निकाला है.



opendefecation



कानून व जनजागृति अभियान भले ही अभी तक देश में खुले में शौच की आदत बदलने में अपेक्षानुकूल सफल न हो पाए हैं,  मगर बैतूल जिले के चौथिया गांव में इस अनोखी कमेंट्री ने काफी हद तक इस बुराई पर पाबंदी लगाने में सफलता पा ली है. चौथिया गांव में लगभग 238 मकान हैं और हर घर में शौचालय है, इसके बावजूद बड़ी संख्या में लोग खुले में शौच जाने की अपनी आदत छोड़ नहीं पाए थे.


Read: मोदी के अभियान से शाहरुख ने दो दिन में कमाए 100 करोड़!


गांव के जागरूक लोगों ने अन्य लोगों को खुले में शौच न जाने का परामर्श दिया और उन्हें यह भी बताया कि इससे कई तरह की बीमारियां फैलती हैं, पर गांव के लोगों ने अपनी खुले में शौच करने की आदत नहीं बदली. इतना ही नहीं, कई लोगों ने तो इस मुहिम का विरोध भी किया.  इस मुहिम के खिलाफ कई तरह के कुतर्क भी फैलाए गए.



lodspkr



तब ग्राम प्रस्फुटन समिति के कचरू बारंगे ने इस बुराई पर रोक लगाने के लिए यह अनोखा तरीका ईजाद किया. बारंगे ने युवाओं व महिलाओं के साथ मिलकर एक निगरानी समिति बनाई. इस समिति ने पंचायत में एक नियंत्रण कक्ष बनाया. गांव के युवा सुबह से ही खुले स्थान पर जाने वालों पर नजर रखते हैं. इस दौरान कोई दिखता है, तो उसकी सूचना मोबाइल के जरिए सीधे नियंत्रण कक्ष को दे दी जाती है. उसके बाद पंचायत पर लगे लाउडस्पीकर पर लाइव कमेंट्री शुरू कर दी जाती है.


Read: एक ऐसा गांव जहां हर आदमी कमाता है 80 लाख रुपए


यह कमेंट्री पूरे गांव को सुनाई देती है साथ ही संबंधित व्यक्ति भी इस कमेंट्री को सुनता है. इतना ही नहीं, खुले में शौच जाने वाले लोगों की तस्वीरें व्हाट्सऐप पर डालने की भी चेतावनी दी गई. इसका नतीजा यह हुआ कि लोग खुले में शौच जाने से कतराने लगे. निगरानी समिति की सदस्य राधा बाई बताती हैं कि महिलाएं छुपकर ऐसे लोगों पर नजर रखती हैं, जो खुले में शौच के लिए जाते हैं. ऐसा देखते ही वे नियंत्रण कक्ष को मिस्डकॉल कर देती हैं. उसके बाद वहां से कमेंट्री शुरू हो जाती है.


cln ind


इस अनोखी पहल की सकारात्मक परिणाम भी सामने आने लगे हैं. इस क्षेत्र में सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता राजेंद्र भार्गव बताते हैं कि इस अनोखी कमेंट्री में अपना नाम कोई भी नहीं सुनना चाहता. लोग इस तरह बदनामी से डरते हैं. इसी का नतीजा है कि गांव में खुले में शौच की आदत पर काफी हद तक रोक लग गई है, गिनती के कुछ लोग ही हैं, जो अब भी खुले में शौच जाते हैं.


एक तरफ जहां सरकार स्वच्छता अभियान और गांवों को निर्मल बनाने की मुहिम पर करोड़ों रूपए खर्च कर रही है वहीं चौथिया गांव के कुछ जागरूक लोगों ने इस अनोखे उपाय द्वारा अपने गांव को निर्मल बनाकर एक मिसाल कायम की है. Next..


Read more:

मुर्गी, बकरी नहीं… सर्प पालन है इस गांव का मुख्य व्यवसाय

इस गांव के लोग परिजनों के मरने के बाद छोड़ देते हैं अपना आशियाना

एक गाँव जहाँ जुड़वा बच्चों के पैदा होने पर सिर खुजलाते हैं डॉक्टर

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *