Menu
blogid : 15986 postid : 1262679

पाकिस्तान कब और कैसे सुधरेगा ? ‘जागरण जंगशन फोरम ‘

Vichar Manthan

  • 297 Posts
  • 3128 Comments

Nehru_Ayub_indus_water_treaty_karachi_sept_16_1960

उरी में आर्मी के कैंप पर बड़ा हमला भारत के सम्मान पर चोट है |भारत में तुरंत आपतकालीन बैठकों का दौर चला कोशिश है मोदी सरकार सकारात्मक कदम उठा कर पाकिस्तान को सबक सिखाये | वह कौन से कदम होंगे जिनसे पाकिस्तान भयभीत होगा – 1.भारत की भूमि से पाकिस्तान जाने वाली नदियों का पानी रोक दिया जाये अर्थात सिंधु जल संधि भंग की जाये|   विभाजित भारत में नदी जल विवाद बहुत बड़ा प्रश्न था विवाद सुलझाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय वर्ड बैंक के प्रेसिडेंट मिस्टर ब्लैक की अध्यक्षता में दोनो पक्षों के बीच अनेक बैठके हुई अंत में ब्लैक की मध्यस्ता से 19 सितंबर 1960 को कराची में सिंधु नदी समझौते पर भारत के प्रधानमन्त्री नेहरु और राष्ट्रपति जरनल अयूब खान ने हस्ताक्षर किये | समझौते के अनुसार सिन्धु नदी की सहायक नदियों को पूर्वी और पश्चिमी नदियों में विभाजित किया गया सतलज ब्यास और रावी पूर्वी नदियां है पूर्वी नदियों का पानी कुछ अपवादों को छोड़ कर भारत में इस्तेमाल किया जाता है| पश्चिमी नदी झेलम चेनाब और सिन्धु नदियों के पानी के प्रयोग पर भारत को सीमित अधिकार दिया है जैसे बिजली बनाना कृषि के लिए प्रयोग, बाकी पानी का प्रयोग पाकिस्तान करता हैं यह जल बटवारा विश्व में सबसे उदार जल बटवारा है| 6 भरी नदियों का पानी लगभग 80.52% पाकिस्तान को दिया जाता है यह बड़े भाई की तरफ से छोटे भाई के लिए दरियादिली थी , नेहरु जी की विश्व नेता बनने की चाह थी वह पकिस्तान के लिए उदार रहे लेकिन पाकिस्तान को जो मिल जाता है उसे अपना हक मानता है फिर भी रोता रहता है | रावी,ब्यास और सतलज से पश्चिमी पंजाब (पाकिस्तान ) की 11मिलियन एकड़ धरती ,सिंध की 5 मिलियन एकड़ और बहावल पुर और खैरपुर की 3 मिलियन एकड़ धरती सिंचित होती है| दिल्ली से अमृतसर जाने वाले यात्री ट्रेन या बस से ब्यासा जी का पुल पार करते हैं जल से लबालब भरी ब्यास नदी पाकिस्तान की ओर जाते देखते हैं |पाकिस्तान में आज भी जागीरदारी सिस्टम का बोलबाला है प्रभावशाली लोग पहले अपने फ़ार्म हॉउस में पानी का इस्तेमाल करते हैं तब अन्य खेतों को मिलता है |

1965 ,1971 और1999 करगिल युद्ध के समय भी भारत द्वारा संधि को तोड़ा नहीं गया |जबकि विशेषज्ञों की राय है वियाना समझौते के लॉ ऑफ़ ट्रीटीज़ की धारा 62 के तहत भारत संधियों से पीछे हट सकता है |अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के अनुसार बदली परिस्थितियों में किसी भी संधि को रद्द कर सकते हैं | लेकिन कुछ की राय है यह समझौता दोनों देशों में तीसरे पक्ष अंतर्राष्ट्रीय बैंक की मध्यस्तता से किया गया था पानी बंद किये जाने पर पाकिस्तान के शोर मचाने पर फिर से मध्यस्तता की बात हो सकती है| भारत को मुस्लिम देशों का समर्थन प्राप्त है उनके पास रो सकता है भारत एक मुस्लिम देश को प्यासा मार रहा है | पाकिस्तान भारत के खिलाफ छद्म युद्ध से बाज नहीं आ रहा| विरोध में ‘जल रोकना बिना रक्त पात का पाकिस्तान के विरुद्ध अघोषित युद्ध होगा |’
2. कुछ विचारक पाकिस्तान में चलने वाले आतंकवादी कैम्पों को नष्ट करने की बात करते हैं पीओके में लगभग 50 चलते फिरते आतंकी कैंप हैं जैसे ही भारत में आतंक के अड्डों को समाप्त करने की आवाज उठी पाकिस्तान इन्हें सिविलियन बस्तियों और सुरक्षित स्थानों पर स्थान्तरित कर रहा है | इनमें पाकिस्तान के नागरिकों को छद्म युद्ध के लिए प्रशिक्षित कर सीमा पार करायी जाती है उन्हें कवर देने के लिए पाकिस्तानी रेंजर गोले दागते हैं | आतंकवादी पाकिस्तान से आये थे उनके पास पाकिस्तानी हथियार और अन्य सामान था पश्तो में सारे निर्देश लिखे थे लेकिन आतंकी गतिविधियों में भारत द्वारा लगाये आरोपों पर पहले की तरह ही पाकिस्तान मुकर गया | आतंकवादी सरगना परमाणु शक्ति का युद्ध में प्रयोग करने की खुले आम धमकी देते है परिणाम भयानक भी हो सकते है पाकिस्तान की सीमा में जाकर आतंकवादी कैंपों पर हमला युद्ध की चुनौती बन सकता है |

3.खुला युद्ध- देश चाहता है परिणाम कुछ भी हो एक बार युद्ध से फैसला हो जाये लेकिन युद्ध सदैव आखिरी विकल्प होता है युद्ध की स्थिति में दुनिया के सभी देश क्या हमारा साथ देगें परमाणु युद्ध के भय से बट भी सकते हैं ? 4.कूटनीतिक उपायों द्वारा पाकिस्तान को घेर कर अलग थलग किया जाये |विश्व बिरादरी पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित करे |अमेरिका की संसद में पहले ही ऐसी कोशिश जारी है|क्या ऐसा सम्भव है ?यूएन में चर्चा के दौरान चीन और सउदी अरब पाकिस्तान का समर्थन करेंगे| संयुक्त राष्ट्र जनरल असेम्बली में नवाज शरीफ ने कश्मीर का मसला उठा कर इसे मानवाधिकार हनन का मुद्दा बनाया लेकिन उनके हाथ निराशा ही लगी नवाज शरीफ ने 19 मिनट के भाषण में 8 मिनट तक कश्मीर का राग अलापा |भाषण शरीफ पढ़ रहे थे, ऐसा लग रहा था जैसे भाषण आर्मी चीफ ने लिखा है ISI ने डिक्टेट किया है | यहाँ तक आतंकी बुरहान बानी को कश्मीरियों का लीडर बता कर आतंकी को हीरो बनाया स्पष्ट है पाकिस्तान आतंक की पाठशाला ही नहीं आतंकियों को सम्मानित भी करता है|  भारत सरकार का प्रयत्न होगा विश्व समुदाय पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित कर अलग थलग करे ऐसा होना क्या सम्भव होगा ?मोदी जी से देश को बहुत आशाएं थी विश्व के अनेक देशों से उन्होंने समर्थन जुटाया है | उनकी पाकिस्तान के प्रति नीति अब क्या होगी कितना समर्थन जुटा सकेंगे ?पाकिस्तान चाहता है भारत सरकारें आतंकवाद में ही उलझी रहें विकास थम –थम कर चले | केरल की जनसभा में भाषण के दौरान मोदी जी ने जोर शोर से पाकिस्तान के खिलाफ कार्यवाही का भरोसा दिया है |अबकी बार उन्होंने पाकिस्तान के आवाम को सम्बोधित कर कहा उन्हें भी भारत की तरह विकास की जरूरत है |  क्या शठ के साथ शठ जैसा व्यवहार नहीं होना चाहिये ?

पाकिस्तान अपने नागरिकों (आतंकियों) के शव लेने से साफ़ इंकार करता है अत: उनके शव को सेना ने पुलिस को सौंप दिया | मारे जाने पर ओसामा के शव को अमेरिका ने समुद्र में डाला था लेकिन हमारे यहाँ मौलवियों द्वारा विधिवत् अंतिम संस्कार कराया गया यहाँ हमारी संस्कृति आड़े आ गयी | क्या ऐसे वहशी, धर्म के नाम पर आतंक फैलाने वालों को भारत की भूमि  में जगह मिलनी चाहिए ? आतंकियों को उकसा कर भारत भेजा जाता है वह जेहाद के लिए जा रहे हो इंसानों का कत्ल करते जेहाद की राह पर शहीद हो जाने पर सीधी जन्नत मिलेगी वहाँ 72 हूरे इंतजार कर रही हैं| पकिस्तान के आतंकवादी आका अपने उद्देश्य में सफल हो गये | क्यों न शवों की अंतिम क्रिया विद्युत् शव गृह दाह में की जाये | उन्हें जन्नत का ख़्वाब दिखाया था वह अधूरा अधर में लटका रह जाता इस्लाम के अनुसार वह जन्नत से महरूम रह जाते | फ़ारसी में पिदर सुकते गाली है अर्थात तेरा बाप जले काफिर जलते हैं | जन्नत का ख़्वाब आतंक का रास्ता अपनाने वाले और बेटों के कृत्य को शहादत का नाम दे कर गर्वित होने वाले माता पिता वलीमा खिलाते हैं उनकी भी रूह कांप जाती | फिदायीन बनाये गये आतंकी डर जाते मर जाने पर उनके शव को उनका देश लेने से मना कर देता है उनके लिए जन्नत का दरवाजा दुश्मन मुल्क बंद कर रहा है जेहादी विचलित हो जाते| हाँ दुश्मन सेना के वर्दी धारी की मरने के बाद उचित ढंग से अंतिम क्रिया होनी चाहिए क्योंकि वह अपने देश के लिए लड़ा था उसका इज्जत के साथ अंतिम संस्कार इंसानियत का कानून है |

Kurdi3

इस्लाम में मान्यता है महिलाओं के हाथों मारे जाने वालों को जन्नत नहीं मिलती आईएसआईएस के जुल्मों के  शिकार होने के बाद खुर्दों ने इनसे लड़ने के लिए लेडी ब्रिगेड बनाई परिवार की जिम्मेदारियों से बाहर निकल कर बुलेट प्रूफ जैकेट पहने और हाथ में खौफनाक हथियार लेकर लेडी ब्रिगेड की दुनिया भर के लिए एक विस्मय और अचरज की कहानी बन चुकी हैं, ईराक और सीरिया में खुर्द लेडी फाइटरों को अपनी तरफ आता देखकर ही आतंकवादी भागते हैं| आतंकवादियों को लगता है अगर वो इन औरतों के हाथों मारे गए, जन्नत से मरहूम रह जायेंगे | उन्होंने भी इन महिलाओं से लड़ने के लिए महिला ब्रिगेड बनाने की कोशिश की है लेकिन यह जांबाज औरतें धर्म भीरुओं पर भारी हैं| क्या उनकी इस सोच का हम लाभ नहीं उठा सकते|

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *