Menu
blogid : 12351 postid : 1245906

न जाने तलाश कैसी कसक कैसी है?

Where have we lost the happiness?

Where have we lost the happiness?

  • 11 Posts
  • 6 Comments

न जाने तलाश कैसी कसक कैसी है?
बिना पिए भी एक नशा ज़रा ज़रा सा है,

होती आसमां तो बरसती ऐसे
की ग़म की आंच से ये दिल भरा भरा सा है …….

नहीं याद सुकून से कब लगी थी आंखें…
धुंदली सी यादें हैं नजरो में धुँआ धुंआ सा है….

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply