Menu
blogid : 12172 postid : 1335803

पितृ दिवस की शुभकामनाएं

! मेरी अभिव्यक्ति !

  • 791 Posts
  • 2130 Comments

झुका दूं शीश अपना ये बिना सोचे जिन चरणों में ,

ऐसे पावन चरण मेरे पिता के कहलाते हैं .

…………………………………………………

बेटे-बेटियों में फर्क जो करते यहाँ ,

ऐसे कम अक्लों को वे आईना दिखलाते हैं .

………………………………………………..

शिक्षा दिलाई हमें बढाया साथ दे आगे ,

मुसीबतों से हमें लड़ना सिखलाते हैं .

………………………………………………..

मिथ्या अभिमान से दूर रखकर हमें ,

सादगी सभ्यता का पाठ वे पढ़ाते हैं .

………………………………………………..

कर्मवीरों की महत्ता जग में है चहुँ ओर,

सही काम करने में वे आगे बढ़ाते हैं .

……………………………………………….

जैसे पिता मिले मुझे ऐसे सभी को मिलें ,

अनायास दिल से ये शब्द निकल आते हैं .

………………………………………………

शालिनी कौशिक

[कौशल]

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply