Menu
blogid : 14076 postid : 674970

किसान दिवस पर एक कविता

कुछ मेरे भी मन की बातें ....

  • 9 Posts
  • 10 Comments

आज कृषक दिवस है , पूर्णतया विस्मृत कर गया था मै भी, आपकी ही तरह , सहसा फेसबुक पर ही एक चित्र देखकर स्मरण हुआ और तत्काल मन में उठते शब्दों के ज्वार को कीबोर्ड पे उँगलियों ने साकार रूप प्रदान कर दिया , अब निर्णय आपको करना है , इस कविता का भी और हमारे कृषकों की वर्तमान परिस्थिति का भी …

श्रम बिंदु बहाते खेतो में हे ! कृषक तुम्हे करता हूँ नमन |
यह देश तुम्हारे दम पर है , तद्यपि होता तेरा ही दमन ||

यह विकास की अंध दौड़ , नहीं छोड़ रही कृष भूमि कहीं
हल, बैल रुके से थमें से खड़े ,नवनिर्माणों से पटी है जमीं
हे ! कृषक तुम्हारे स्वप्नों को है रौंद रहे ऊँचे ये भवन

श्रम बिंदु बहाते खेतो में हे ! कृषक तुम्हे करता हूँ नमन |
यह देश तुम्हारे दम पर है , तद्यपि होता तेरा ही दमन ||

तुम विवश आत्महत्या को हो कहीं स्वयं, कहीं तो कुटुंब संग
जिन पर रक्षा का भार तेरा, वे भ्रष्ट लूटते रास रंग
तेरा घर उजड़े उनका क्या ? उनका ना उजड़ने पाए चमन

श्रम बिंदु बहाते खेतो में हे ! कृषक तुम्हे करता हूँ नमन |
यह देश तुम्हारे दम पर है , तद्यपि होता तेरा ही दमन ||

…………………………………………..

सचिन कुमार दीक्षित ‘स्वर’

Read Comments

Post a comment