Menu
blogid : 19157 postid : 872952

एक ऐसा शिवलिंग जिसकी पूजा मनवांछित फल नहीं देती

उत्तराखंड प्रसिद्ध देवस्थलों के लिये मशहूर है. केदारनाथ, बद्रीनाथ के अलावा यहाँ पिथौरागढ़ जिले की डीडीहाट तहसील में भी एक मंदिर है. इस मंदिर में स्थित शिवलिंग की पूजा नहीं की जाती. पढ़ने में अटपटी लग रही इस तथ्य के पीछे एक मान्यता है. एक ऐसी मान्यता जिसने इस मंदिर को प्रसिद्धि तो दिला दी है, लेकिन किसी अन्य कारण से.


hathiya deval


एक हथिया देवालय के नाम से मशहूर इस मंदिर में शिवलिंग स्थापित है. किंवदंतियों के अनुसार किसी मूर्तिकार का हाथ एक हाथ बेकार हो गया था. मूर्तियों का शिल्पी वह कारीगर एक हाथ से मूर्तियाँ बनाता था. उसके आस-पास के लोग न चाहते हुए भी उससे पूछ लेते कि, ‘एक हाथ से वह कैसे काम करेगा?’ लोगों के मुँह से निकले इस प्रश्न को वह सुनता था परंतु उसे यह नश्तर की तरह चुभती.


Read: क्या है इस रंग बदलते शिवलिंग का राज जो भक्तों की हर मनोकामना पूरी करता है?


लगातार एक ही सवाल को सुन उसे खीझ होने लगी थी. एक रात उसने लोगों को जवाब देने के बजाय उस स्थान से दूर चले जाने का निश्चय कर लिया. उसने अपने औजारों को एकत्र किया और उन्हें साथ लेकर वहाँ से जाने लगा. जाने से पहले उसने इस मंदिर में शिवलिंग बनायी. सूर्योदय से पहले निकलने के चक्कर में उसने शिवलिंग के अरघे की दिशा बदल दी. उसके बाद वह वहाँ से चला गया. सुबह जब लोग उस मंदिर में पहुँचे तो उन्होंने वहाँ बना शिवलिंग देखा. शिवलिंग के अरघे को विपरीत देशा में देख उन्हें निराशा हुई. उन्होंने कारीगर को ढूँढ़ा लेकिन वह तो बोर होने से पहले ही निकल चुका था.


Read: रहस्यमयी है यह मंदिर जहां भक्त नहीं मां गंगा स्वयं करती हैं शिवलिंग पर जलाभिषेक


शास्त्रों के अनुसार शिवलिंग के अरघे का विपरीत दिशा में होना एक प्रकार का दोष होता है. इस दोष के कारण शिवलिंग की पूजा से वांछित परिणाम की प्राप्ति नहीं होती. यही कारण है कि मंदिर में बनी इस शिवलिंग की आज तक पूजा नहीं हुई.Next….


Read more:

एक मंदिर जहाँ बहती है घी की नदी

क्यों वर्जित है माता के इस मंदिर में महिलाओं का प्रवेश

‘सज्जनों की रक्षा’ और ‘दुर्जनों का नाश’ करती है इस मंदिर की ये मुर्तियां


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *