Menu
blogid : 19157 postid : 1137514

इस राक्षस की हड्डियों से बना था शंख इसलिए शिवलिंग पर नहीं चढ़ाया जाता इससे जल

आपने कई फिल्मों में देखा होगा कि शंख से शिवलिंग पर जल चढ़ाया जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं फिल्मी दुनिया से परे वास्तविक जीवन में शिवलिंग पर शंख से जल चढ़ाने को निषेध माना गया है. वास्तव में ‘शिवपुराण’ में एक कहानी वर्णित है जिसमें इस बात के कारण को समझा जा सकता है. शिवपुराण के अनुसार शंखचूड नाम का महापराक्रमी दैत्य हुआ. शंखचूड दैत्यराम दंभ का पुत्र था. दैत्यराज दंभ को जब बहुत समय तक कोई संतान उत्पन्न नहीं हुई तब उसने भगवान विष्णु के लिए कठिन तपस्या की. तप से प्रसन्न होकर विष्णु प्रकट हुए. विष्णुजी ने वर मांगने के लिए कहा तब दंभ ने तीनों लोको के लिए अजेय एक महापराक्रमी पुत्र का वर मांगा. श्रीहरि तथास्तु बोलकर अंतध्र्यान हो गए. तब दंभ के यहां एक पुत्र का जन्म हुआ जिसका नाम शंखचूड़ पड़ा.

shiv and demon

Read : अपनी पुत्री पर ही मोहित हो गए थे ब्रह्मा, शिव ने दिया था भयानक श्राप

शंखचुड ने पुष्कर में ब्रह्माजी के निमित्त घोर तपस्या की और उन्हें प्रसन्न कर लिया. ब्रह्मा ने वर मांगने के लिए कहा तब शंखचूड ने वर मांगा कि वो देवताओं के लिए अजेय हो जाए। ब्रह्माजी ने तथास्तु बोला और उसे श्रीकृष्णकवच दिया. साथ ही ब्रह्मा ने शंखचूड को धर्मध्वज की कन्या तुलसी से विवाह करने की आज्ञा दी. फिर वे अदृश्य हो गए. ब्रह्मा की आज्ञा से तुलसी और शंखचूड का विवाह हो गया. ब्रह्मा और विष्णु के वरदान के मद में चूर दैत्यराज शंखचूड ने तीनों लोकों पर स्वामित्व स्थापित कर लिया. देवताओं ने त्रस्त होकर विष्णु से मदद मांगी परंतु उन्होंने खुद दंभ को ऐसे पुत्र का वरदान दिया था अत: उन्होंने शिव से प्रार्थना की. तब शिव ने देवताओं के दुख दूर करने का निश्चय किया और वे चल दिए.

shell44


Read : ऐसा क्या हुआ था कि विष्णु को अपना नेत्र ही भगवान शिव को अर्पित करना पड़ा? पढ़िए पुराणों का एक रहस्यमय आख्यान


परंतु श्रीकृष्ण कवच और तुलसी के पतिव्रत धर्म की वजह से शिवजी भी उसका वध करने में सफल नहीं हो पा रहे थे. तब विष्णु ने ब्राह्मण रूप बनाकर दैत्यराज से उसका श्रीकृष्णकवच दान में ले लिया. इसके बाद शंखचूड़ का रूप धारण कर तुलसी के शील का हरण कर लिया. अब शिव ने शंखचूड़ को अपने त्रिशुल से भस्म कर दिया और उसकी हड्डियों से शंख का जन्म हुआ. चूंकि शंखचूड़ विष्णु भक्त था. अत: लक्ष्मी-विष्णु को शंख का जल अति प्रिय है और सभी देवताओं को शंख से जल चढ़ाने का विधान है. परंतु शिव ने चूंकि उसका वध किया था अत: शंख का जल शिव को निषेध बताया गया है. इसी वजह से शिवजी को शंख से जल नहीं चढ़ाया जाता है…Next

Read more

साधुओं ने बनाई थी भगवान शिव की विनाश की योजना, शिव ने धारण किया था नटराजन रूप

भगवान शिव की तीसरी आंख खुलने का राज छिपा है इस आध्यात्मिक आम के पेड़ में

विष्णु के पुत्रों को क्यों मार डाला था भगवान शिव ने, जानिए एक पौराणिक रहस्य

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *