Menu
blogid : 19157 postid : 1365327

समुद्रशास्त्र : आपके हंसने का तरीका खोलता है स्वभाव का राज, जानें कैसे व्यक्ति हैं आप

कहते हैं जो काम बड़ी-बड़ी लड़ाईयां नहीं कर सकती, वो काम आपकी मुस्कान कर सकती हैं. ये मुस्कान अगर हंसी में बदल जाए, तो बात ही क्या है. हंसी एक औषधि है, जिसके बहुत से फायदे हैं. तन-मन को निखारने के लिए हंसी सबसे अच्छी थेरेपी है. आपने अपने आसपास ऐसे कई लोगों को देखा होगा, जो हमेशा हंसते रहते हैं. वहीं कुछ लोग ऐसे होते हैं, जो हंसते बेशक ना हो, लेकिन हर बात पर मुस्कुरा जरूर देते हैं. समुद्रशास्त्र में व्यक्तियों के हंसने के तरीकों के आधार पर उनके स्वभाव का उल्लेख किया गया है.


smiling


खिलखिलाकर जोर से हंसने वाले लोग

जो लोग हंसने में कंजूसी नहीं करते हैं, यानी खिलखिलाकर हंसते हैं, ऐसे लोग उत्साही प्रवृति के होते हैं. ऐसे व्यक्तियों की बौद्धिक क्षमता अच्छी होती है और सहनशील होते हैं. इनके मन में छल  कपट की भावना नहीं रहती. जरूरत पड़ने पर लोगों की मदद के लिए सदैव तैयार रहते हैं.

Happy group of friends


ठहाका मारकर हंसने वाले लोग

कुछ लोग हंसते समय तेज आवाज निकालते हैं. इस तरह की हंसी अट्टाहास या ठहाके वाली हंसी होती है. जिन हंसी वाले लोग स्वाभिमानी और परिश्रमी होते हैं. ऐसे लोग जीवन में सफल भी होते हैं.


मंद मुस्कान वाली हंसी

कई लोग मंद मुस्कान के साथ हंसते हैं. जिन लोगों की ऐसी हंसी होती है वो बुद्धिमान और गंभीर प्रवृति के होते हैं. ऐसे लोगों को जल्दी क्रोध नहीं आता है और कठिन समय में धैर्य से काम लेते हैं.


smile



बीच में रुक-रुककर हंसने वाले लोग

कुछ लोग हंसने में भी कंजूसी करते हैं यानी रूक-रूक कर हंसते हैं या किसी बात पर देर से इन्हें हंसी आती है. ऐसे लोगों की बौद्धिक क्षमता सामान्य होती है. ऐसे लोग विवेक की बजाय भावना से काम लेते हैं. बचत की प्रवृति इनमें खूब होती है. …Next

Read More:

शिवपुराण : भगवान शिव इस कारण पूरे शरीर में लगाते हैं भस्म

श्रीकृष्ण का ऐसा पत्थर जिसे 7 हाथी मिलकर भी हिला नहीं सके, आज भी पड़ा है यहां

संसार के विनाशक भगवान शिव का ऐसे हुआ था जन्म, शिवमहापुराण में इस देवता को बताया गया पिता

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *