Menu
blogid : 19157 postid : 1366293

महाभारत : पूर्वजन्म में धृतराष्ट्र को मिला था श्राप, इस वजह से जन्मे थे नेत्रहीन

महाभारत की अनगिनत कहानियों में ऐसे कई पात्र हैं जिनके जीवन को समझना हर किसी के वश की बात नहीं है. इनमें से कई योद्धाओं को अपने पूर्वजन्म में किए गए कर्मों के कारण ही द्वापर युग में ऐसा फल भोगना पड़ा, जो किसी के लिए भी हैरानी की वजह बन सकता है.


dhri




महाभारत में धृतराष्ट्र भी एक ऐसे ही पात्र हैं जिन्होंने पुत्र मोह में आकर हमेशा से ही धर्म और न्याय को अनदेखा किया, जिसकी वजह से पूरी न्याय व्यवस्था धराशायी हो गई थी. लेकिन क्या आप जानते हैं कि धृतराष्ट्र जन्म से नेत्रहीन थे, ये उनके पूर्वजन्म में किए गए पाप का फल था.


_Dhritrashtra


इस श्राप के कारण धृतराष्ट्र हुए थे नेत्रहीन

धृतराष्ट्र अपने पिछले जन्म में एक बहुत दुष्ट राजा थे. एक दिन उन्होंंने देखा कि नदी में एक हंस अपने बच्चों के साथ आराम से विचरण कर रहा है. उन्होंंने आदेश दिया कि उस हंस की आंंखें फोड़ दी जाए और उसके बच्चों को मार दिया जाये. इसी वजह से अगले जन्म वे नेत्रहीन पैदा हुए थे. उसके पुत्र भी उसी तरह मृत्यु को प्राप्त हुए जैसे उस हंस के बच्चों के साथ हुआ था.


rastra



इस मंदिर में की जाती है महाभारत के खलनायक समझे जाने वाले दुर्योधन की पूजा


हंस ने दिया था श्राप

हंस ने मरते हुए धृतराष्ट्र को ये श्राप दिया था कि जिस तरह उसके नेत्रों को निकाला गया है और उसका जीवन समाप्त कर दिया गया. उसी तरह अगले जन्म में नेत्र न होने की वजह से धृतराष्ट्र को जीवनभर अपमानित होना पड़ेगा.


dhutrastra


साथ ही उसके सामने उसके पुत्रों की हत्या की जाएगी, लेकिन नेत्रहीन होने के कारण वो चाहकर भी अपने पुत्रों का मुख नहीं देख पाएगा. हंस का दिया हुआ ये श्राप धृतराष्ट्र के अगले जन्म में फलीभूत हुआ और नेत्रहीन होने के कारण धृतराष्ट्र को जीवनभर अपमानित होना पड़ा…Next


Read More:

तो इस तरह महाभारत में सुनाई गई रामायण की कहानी

महाभारत के युद्ध में बचे थे केवल 18 योद्धा, जानिए इस अंक से जुड़े आश्चर्यजनक रहस्य

महाभारत की इस घटना में किया गया था अश्वत्थामा से छल, द्रोणाचार्य को भी सहना पड़ा था अन्याय

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *