Menu
blogid : 19157 postid : 1315694

श्रीकृष्ण की बहन के इस कदम ने पलट दिया महाभारत का इतिहास, नहीं होता कभी अभिमन्यु का जन्म

महाभारत को न्याययुद्ध के रूप में देखा जाता है. जब अत्याचार करने वाले अपने ही हो तो व्यक्ति की मनोस्थिति कैसी होती है, ये बात रणभूमि से भागते अर्जुन को देखकर समझी जा सकती है. दुविधा में व्यक्ति सही-गलत का फैसला नहीं कर पाता. अपनों का मोह उसे अस्त्र उठाने नहीं देता. महाभारत की रणभूमि पर श्रीकृष्ण के द्वारा दिया गया गीता ज्ञान जीवन का सार है, जो हर युग में मनुष्यों के लिए लाभकारी है.


arjun 3

महाभारत की अंसख्य कहानियों के चरित्रों को समझकर जीवन के कई पहलुओं को समझा जा सकता है. महाभारत की इन्हीं कहानियों में से एक कहानी है अर्जुन और श्रीकृष्ण की बहन सुभद्रा की.

पांडवों से द्रौपदी ने लिया था दूसरा विवाह न करने का वचन

जब द्रौपदी का विवाह कुंती ने पांचों भाईयों से करवा दिया, तो द्रौपदी ने वचन लिया कि पांडव द्रौपदी के अलावा किसी भी अन्य स्त्री को रानी के रुप में घर में नहीं लाएंगे. जिसे सभी पांडवों ने निर्विवाद स्वीकार कर लिया लेकिन महाभारत में ऐसी कई कहानियां मिलती है जिनसे पता चलता है कि द्रौपदी के अतिरिक्त भी पांडवों ने विवाह किया था.


arjun4

अज्ञातवास के दौरान जब अर्जुन को दो वर्ष के लिए रहना पड़ा घर से दूर

महाभारत में एक प्रसंग के अनुसार द्रौपदी को सभी भाईयों के साथ एक-वर्ष बिताने का समय निर्धारित किया गया था. इस दौरान किसी अन्य भाई द्रौपदी के कक्ष में आने की अनुमति नहीं थी, लेकिन एक किसान की मदद करने के लिए अर्जुन को अपने धनुष-बाण लेने के लिए कक्ष में आना पड़ा. उस दौरान द्रौपदी बड़े भाई युधिष्ठिर के साथ वार्तालाप कर रही थीं. इस प्रकार वचन का पालन करने के लिए अर्जुन को दो वर्ष के लिए घर से दूर वन में जाना पड़ा.


queen3

अपने विवाह मंडप से भागकर आई थीं सुभद्रा

अर्जुन के मंदिर के पास बैठकर ध्यान लगा रहे थे. तभी उन्होंने एक स्त्री के विलाप की ध्वनि सुनी. अर्जुन ने जब स्त्री से कारण पूछा तो उसने बताया वो श्रीकृष्ण की बहन सुभद्रा है और उनके बड़े भाई बलराम उसका विवाह दुर्योधन से करवाना चाहते हैं. अर्जुन ने सुभद्रा को पहचान लिया. सुभद्रा ने अर्जुन को बताया वो बचपन से अर्जुन से प्रेम करती है और उसी से विवाह करने की इच्छा रखती है. इस कारण ही वो विवाह मंडप से भागकर आई हैं.


mahabharat 5

मंडप से भागकर अर्जुन से कर लिया विवाह

तभी वहां श्रीकृष्ण प्रकट हुए और उन्होंने सुभद्रा के प्रेम को स्वीकार करने के लिए अर्जुन को कहा. अर्जुन ने सुभद्रा से विवाह कर लिया और इस तरह दुर्योधन से सुभद्रा का विवाह होते-होते टल गया.


duryodhan

दुर्योधन से विवाह होने पर नहीं हो पाता अभिमन्यु जैसे योद्धा का जन्म

सीख और पांचों पांडवों के दिए ज्ञान से अभिमन्यु एक कुशल योद्धा बन गया. यदि अभिमन्यु दुर्योधन का पुत्र होता, तो उसमें एक योद्धा के गुण कभी नहीं होते…Next


Read More :

केवल इस योद्धा के विनाश के लिए महाभारत युद्ध में श्री कृष्ण ने उठाया सुदर्शन चक्र

श्री कृष्ण के संग नहीं देखी होगी रुक्मिणी की मूरत, पर यहाँ विराजमान है उनके इस अवतार के साथ

मरने से पहले कर्ण ने मांगे थे श्रीकृष्ण से ये तीन वरदान, जिसे सुनकर दुविधा में पड़ गए थे श्रीकृष्ण

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *