Menu
blogid : 19157 postid : 1389401

भारत में नहीं दिखेगा साल का आखिरी सूर्यग्रहण, जानें कारण और बरतें सावधानी

Rizwan Noor Khan

14 Dec, 2020

साल 2020 का आखिरी सूर्यग्रहण 14 दिसंबर को लगेगा। इस बार चंद्रमा पूरी तरह से सूर्य को ढंक लेगा। इसी वजह से इसे पूर्ण सूर्यग्रहण भी कहा जा रहा है। यह पूर्ण सूर्यग्रहण भारत समेत एशिया के कई देशों में नहीं दिखाई देगा। इस बार सूतक लागू नहीं होने से दुष्प्रभाव भी कम रहेंगे। हालांकि, इस दौरान सावधानी बरतना बेहद जरूरी है।

Image courtesy : AFP/Al Jazeera

सूर्य को ढंक लेगा चंद्रमा
सूर्य आज चंद्रमा की छाया से ढंक जाएगा। इसलिए धरती पर पहले की तरह सूर्य की रोशनी पर बाधा आ जाएगी। द्रिक पंचांग के अनुसार सूर्यग्रहण भारतीय समयानुसार शाम 7 बजकर 3 मिनट से शुरू होगा और रात 12 बजकर 23 मिनट तक रहेगा। इस अवधि में भारत में शाम हो चुकी होगी इसलिए सूर्यग्रहण भारतीय नहीं देख सकेंगे।

इन देशों से दिखाई देगा
यह ग्रहण मुख्य रूप से चिली, अर्जेंटीना, दक्षिण अटलांटिक महासागर और दक्षिण प्रशांत महासागर से दिखाई देगा। चिली के टेमुको, विलारिका और अर्जेंटीना के सियरा और कोलोराडा शहर से पूर्ण सूर्यग्रहण ​देखा जा सकेगा। आंशिक सूर्यग्रहण प्रशांत महासागर, अंटार्कटिका और दक्षिण अमेरिका में दक्षिण के अधिकांश हिस्सों से भी दिखाई देगा। ब्राजील के साओ पाउलो, पेरू के लीमा, उरुग्वे के मोंटेवीडियो और पैराग्वे के कुछ शहरों में भी आंशिक सूर्यग्रहण दिखाई देगा।

एशियाई देशों में नहीं दिखाई देगा
सूर्यग्रहण भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका, नेपाल, अफगानिस्तान, फिजी, मॉरीशस, संयुक्त अरब अमीरात समेत कई एशियाई देशों से दिखाई नहीं देगा। इसके अलावा उत्तरी अटलांटिक महासागर, हिंद महासागर, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका के ज्यादातर देशों में दिखाई नहीं देगा।

Image courtesy : REUTERS/Al Jazeera

सूर्यग्रहण में बरतें सावधानी
ऐसा माना जाता है कि ग्रहण के दौरान सूर्य ग्रह को कष्ट सहना पड़ता है। ऐसे में इसे नंगी आंखों से नहीं देखना चाहिए, अन्यथा आंखों में विकार या बीमारी होने का खतरा रहता है। सूर्य ग्रहण के दौरान सावधानी नहीं बरतने पर शारीरिक परेशानी या स्वास्थ्य खराब होने की आशंका रहती है।…Next

 

Read More: 3 साल में तैयार होगा भव्य राम मंदिर, तांबे की 10 हजार पत्तियों से जोड़े जाएंगे पत्थर

अयोध्या राममंदिर भूमिपूजन की 10 मनमोहक तस्वीरें यहां देखिए

महाभारत युद्ध में इस राजा ने किया था खाने का प्रबंध, सैनिकों के साथ बिना शस्‍त्र लड़ा युद्ध

श्रीकृष्‍ण की मौत के बाद उनकी 16000 रानियों का क्‍या हुआ, जानिए किसने किया कृष्‍ण का अंतिम संस्‍कार

अल्‍प मृत्‍यु से बचने के लिए बहन से लगवाएं तिलक, यमराज से जुड़ी है ये खास परंपरा और 4 नियम

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *