Menu
blogid : 19157 postid : 1388270

हनुमान जी ने लंका से शनिदेव को फेंका था इस जगह, यहां बना मंदिर इन वजहों से है खास

Pratima Jaiswal
Pratima Jaiswal 6 Aug, 2019

यह तो आपने सुना ही होगा कि जिस पर पवनपुत्र हनुमानजी की कृपा होती है, उस पर शनिदेव भी अवश्य कृपा करते हैं और हनुमानजी के भक्त पर शनिदेव कभी भी नाराजगी नहीं दिखाते। यूं तो शनिदेव और हनुमानजी के अनेक प्रसिद्ध मंदिर हैं, उनमें से एक मध्यप्रदेश में ग्वालियर के समीप एंती गांव में स्थित शनिदेव का मंदिर भी शामिल है।

 

cover shani

 

 

मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां त्रेतायुग से ही शनिदेव की प्रतिमा विराजमान है। इसका निर्माण आसमान से गिरे उल्कापिंड से हुआ है। इस शनि मंदिर का निर्माण विक्रमादित्य ने करवाया था, बाद में कई शासकों ने इसका जीर्णोद्धार भी करवाया।

 

shanii

 

पौराणिक मान्यता के अनुसार कहा जाता है कि रावण ने एक बार शनिदेव को भी कैद कर लिया था, तब शनिदेव ने हनुमानजी को कहा था कि अगर वे उन्हें यहाँ से छुड़ा लेते हैं, तो वे रावण के नाश में अहम भूमिका निभाएंगे और फिर शनिदेव को हनुमानजी ने रावण की कैद से मुक्त कराया और इसी तरह हनुमानजी ने अपने बल पूर्वक से शनिदेव को आकाश में उछाल दिया और वे यहां आ गए।

 

sita

 

तभी से शनिदेव यहां विराजमान हैं, यह क्षेत्र भी शनिक्षेत्र के नाम से मशहूर हो गया है। यहां शनिवार को दूर दरार से श्रद्धालु आते हैं और आपने न्याय के लिए प्रार्थना करते हैं।इनके बारे में यह भी कहा जाता है कि जब लंका से प्रस्थान करते समय शनिदेव ने लंका को अपनी तिरछी नजरो से देखा था। इसी कारण रावण का कुल सहित नाश हो गया.

 

 

snai

 

 

यहां शनिदेव को तेल अर्पित करने के बाद उनसे गले मिलने की परंपरा है। यहां आने वाले भक्त शनिदेव को तेल अर्पित कर उनके गले मिलते हैं और उनसे अपनी समस्याओं का जिक्र करते हैं। कहा जाता है कि ऐसा करने से शनिदेव उस व्यक्ति की सारी परेशानियों को दूर कर देते हैं। माना जाता है कि राजा विक्रमादित्य ने शनिदेव मंदिर का निर्माण करवाया थाNext

 

Read more

श्रीकृष्ण के इस पत्थर को हटाने के लिए सात हाथियों का लिया गया सहारा, पर नहीं हिला

क्यों प्रिय है श्रीकृष्ण को बांसुरी, इस पूर्वजन्म की कहानी में छुपा है रहस्य

ऐसे मिला था श्रीकृष्ण को सुदर्शन चक्र, इस देवता ने किया था इसका निर्माण

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *