Menu
blogid : 19157 postid : 1377098

यहां ‘रक्त’ में डूबे हुए कपड़े में मिलता है प्रसाद! ऐसी है कामाख्या मंदिर की कहानी

असम के गुवाहाटी से लगभग 8 किलोमीटर दूर स्थित है देवी सती का कामाख्या मंदिर। इस मंदिर को लेकर कई कथाएं प्रचलित हैं। लेकिन 51 शक्तिपीठों में से सबसे महत्वपूर्ण माने जाने वाला यह मंदिर रजस्वला माता की वजह से ज़्यादा ध्यान आकर्षित करता है। यहां चट्टान के रूप में बनी योनि से रक्त निकलता है।

cover kam

हवन कुंड में दी थी जान

प्रचलित कथा के अनुसार देवी सति ने भगवान शिव से शादी की, इस शादी से सति के पिता राजा दक्ष खुश नहीं थे। एक बार राजा दक्ष ने एक यज्ञ का आयोजन किया लेकिन इसमें सति के पति भगवान शिव को नहीं बुलाया। सति इस बात से नाराज़ हुईं और बिना बुलाए अपने पिता के घर पहुंच गई। इस बात पर राजा दक्ष ने उनका और उनके पति का बहुत अपमान किया। अपने पति का अपमान उनसे सहा नहीं गया और हवन कुंड में कूद गई।


kamkya



सति का शव 51 हिस्सों में जाकर गिरा

इस बात का पता चलते ही भगवान शिव भी यज्ञ में पहुंचे और सति का शव लेकर वहां से चले गए। वह सति का शव लेकर तांडव करने लगे, उन्हें रोकने के लिए भगवान विष्णु ने सुदर्शन चक्र फेंका। इस चक्र से सति का शव 51 हिस्सों में जाकर कटकर जगह-जगह गिरा. इसमें सति की योनि और गर्भ इसी कामाख्या मंदिर के स्थान यानी निलाचंल पर्वत पर गिरा। इस स्थान पर 17वीं सदी में बिहार के राजा नारा नारायणा ने मंदिर बनाया।


shiva-and-sati


ब्रह्मपुत्र नदी का पानी लाल हो जाता है

इस मंदिर में हर साल अंबुवाची मेले का आयोजन किया जाता है, इस मेले में देशभर के तांत्रिक हिस्सा लेने आते हैं। ऐसी मान्यता है कि इन तीन दिनों में माता सति रजस्वला होती हैं और जल कुंड में पानी की जगह रक्त बहता है। इन तीन दिनों के लिए मंदिर के दरवाजे बंद रहते हैं। तीन दिनों के बाद बड़ी धूमधाम से इन्हें खोला जाता है। हर साल मेले के दौरान मौजूद ब्रह्मपुत्र नदी का पानी लाल हो जाता है। ऐसा माना जाता है कि ये पानी माता के रजस्वला होने का कारण होता है।


Kamakhya


इस प्रसाद को अंबुवाची प्रसाद कहा जाता है

इतना ही नहीं यहां दिया जाने वाले वाला प्रसाद भी रक्त में डूबा कपड़ा होता है। ऐसा कहा जाता है कि तीन दिन जब मंदिर के दरवाजे बंद किए जाते हैं तब मंदिर में एक सफेद रंग का कपड़ा बिछाया जाता है जो मंदिर के पट खोलने तक लाल हो जाता है। इसी लाल कपड़े को इस मेले में आए भक्तों को दिया जाता है। इस प्रसाद को अंबुवाची प्रसाद भी कहा जाता है। इस मंदिर में कोई भी मूर्ति नहीं है, यहां सिर्फ योनि रूप में बनी एक समतल चट्टान को पूजा जाता हैं। मूर्तियां साथ में बने एक मंदिर में स्थापित की गई हैं, इस मंदिर में पशुओं की बली भी दी जाती है।


guwahati


पौराणिक कथाओं में भी ये भी है मान्यताएं

आपको बता दें इन पौराणिक कथाओं में विश्वास ना रखने वाले लोगों का मानना है कि इस मंदिर के पास मौजूद नदी का पानी मंदिर में मेले में चढ़ाए गए सिंदूर के कारण होता है। या फिर यह रक्त पशुओं का रक्त होता है, जिनकी यहां बलि दी जाती है। सच्चाई जो भी हो, इस मंदिर के आर्षकण का केंद्र रजस्वला रक्त की पूजा है, जिसे देखने यहां हर साल कई सारे भक्त जाते हैं।…Next


Read More :

आपके घर में है ‘मनीप्लांट’ तो भूल से भी न करें ये गलतियां

समुद्र शास्त्र: अगर इस उंगली पर है तिल मिलता है प्यार, दौलत और शोहरत

गरूड़पुराण : पति से प्रेम करने वाली स्त्रियां भूल से भी न करें ये 4 काम

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *