Menu
blogid : 19157 postid : 879278

ऐसे प्रार्थना करने से पूरी हो जाएगी आपकी मुरादें

सांसारिक कर्मों के अलावा प्रार्थना मनुष्यों के जीवन की दिनचर्या का अभिन्न हिस्सा मानी जाती रही है. कई रूपों वाली प्रार्थना से आशय उस महाशक्ति की स्तुति से है जिसकी शक्ति के कारण प्रलय और सृजन सम्भव होता है. मौलिक होने के कारण प्राणियों का सृजन उस महाशक्ति की अद्भुत कृत्यों में से एक मानी जाती है.


meditation



प्रकृति रूपी इस महाशक्ति की स्तुति के कई तरीक़ें हैं, जो मानवों द्वारा ईज़ाद किये गये हैं और कालांतर में जिसमें संशोधन होता रहा है. हालांकि, इस स्तुति का सर्वमान्य ध्येय आत्मा से एकाकार होना है. समय के साथ पाखंड और कुरीतियों ने प्रार्थना के तरीक़ों पर अपना प्रभाव स्थापित कर लिया है जिस कारण धर्म पर लोगों की आस्था में क्षरण हुआ है. इन तरीक़ों में द्रव्य से महाशक्ति को प्रभावित करने की कोशिश प्रमुख हैं.


Read: एक साधारण से बालक ने शनि देव को अपाहिज बना दिया था, पढ़िए पुराणों में दर्ज एक अद्भुत सत्य


प्रार्थना के समय मनुष्यों की मुद्रा और भाव अहम होते हैं. नि:स्वार्थ भाव से की गयी प्रार्थना कामना रहित होती है. ग्रंथों में कई ऐसी कहानियों का उल्लेख है जिससे स्तुति के दौरान होने वाले मनोभाव का पता चलता है. ऐसी ही कहानियों में से एक कहानी जिससे प्रार्थना के समय मनुष्यों के मन के भाव का पता चलता है –


gestures prayer


बालक ध्रुव के पिता की दो पत्नियाँ थी. उसके पिता दोनों पत्नियों में सुंदर अपनी दूसरी पत्नी से अत्यधिक स्नेह करते थे. एक बार दरबार में बालक ध्रुव अपने राजा पिता की गोद में बैठ गया. राजा की दूसरी पत्नी से यह देखा न गया और उसने ध्रुव को अपने पति की गोद से हटाते हुए उसे भगवान की गोद में बैठने को कहा. नन्हें अबोध बालक ने अपनी माँ से ईश्वर से मिलन का उपाय पूछा. उसकी माँ ने बालक के प्रश्न का उत्तर देते हे कहा कि, ‘ईश्वर-प्राप्ति के लिये अरण्य में घोर तपस्या करनी पड़ती है.’



worshipping sun


बालक ध्रुव ने ईश्वर की गोद में बैठने का निश्चय कर लिया. माँ के मनाने के बावजूद वह अरण्य में तपस्या करने निकल पड़ा. अरण्य पहुँच बालक ध्रुव बिना किसी प्रसाद और अन्य सामग्री के एक वृक्ष के नीचे बैठ ईश्वर का आह्वान करने लगा. नन्हें से बालक की निस्वार्थ भाव से पुकार सुन बैकुंठ-पति विष्णु का हृदय पिघल गया. उन्होंने ध्रुव को दर्शन दिये और उससे इच्छित वर माँगने को कहा. ध्रुव ने उनके गोद में बैठने की इच्छा जाहिर कर दी. नारायण ने मुस्कुराते हुए तत्काल ही उसकी यह इच्छा पूरी कर दी. कालांतर में ध्रुव को पिता का राज्य प्राप्त हुआ.


Read: अपनी मारक दृष्टि से रावण की दशा खराब करने वाले शनि देव ने हनुमान को भी दिया था एक वरदान


मन की शांति और एकाग्रता के लिये प्रार्थना आवश्यक है. इससे चित्त प्रसन्न रहता है, लेकिन यह तभी सम्भव है जब प्रार्थना कामरहित मन से की गयी हो और जब प्रार्थना के ऊपर सांसारिक इच्छा हावी न हों.Next….


Read more:

अगर आपने कभी किया है कोई पाप तो ऐसे करें प्रायश्चित

कैसे पड़ा दशानन का नाम रावण

जानिए किस उम्र में बन सकते हैं आप शनि के कोप के शिकार और इससे बचने के अचूक उपाय



Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *