Menu
blogid : 19157 postid : 1143699

इस पाप के कारण छल से मारा गया द्रोणाचार्य को, इस योद्धा ने लिया था अपने पूर्वजन्म का प्रतिशोध

महाभारत को महाकाव्य के रूप में जाना जाता है. इसके विभिन्न चरित्रों से हमें कोई न कोई सीख जरूर मिलती है. महाभारत के ऐसे ही एक चरित्र के बारे में लोगों को सबसे कम जानकारी है. वो चरित्र है ‘धृष्टद्युम्न’. द्रौपदी का भाई धृष्टद्युम्न भी अन्य पात्रों की तरह ही महाभारत का मुख्य पात्र है. जिसके द्वारा गुरू द्रोणाचार्य की मृत्यु हुई थी. धृष्टद्युम्न के जन्म से एक दिलचस्प कहानी जुड़ी है. महात्मा याज ने जब राजा द्रुपद का यज्ञ करवाया तो यज्ञ के अग्निकुण्ड में से एक दिव्य कुमार प्रकट हुआ. उसके सिर पर मुकुट, शरीर पर कवच तथा हाथों में धनुष-बाण थे. यह देख सभी पांचालवासी हर्षित हो गए.

drona final

जानिए महाभारत में कौन था कर्ण से भी बड़ा दानवीर

तभी आकाशवाणी हुई कि इस पुत्र के जन्म से द्रुपद का सारा शोक मिट जाएगा. यह कुमार द्रोणाचार्य को मारने के लिए ही पैदा हुआ है. ब्राह्मणों ने इस बालक का नामकरण करते हुए कहा कि यह कुमार बड़ा धृष्ट(ढीट) और असहिष्णु है. इसकी उत्पत्ति अग्निकुंड की द्युति से हुई है, इसलिए इसका धृष्टद्युम्न होगा. ऐसा भी माना जाता है कि धृष्टद्युम्न पिछले जन्म में एकलव्य था. जिसने गुरू द्रोण के कहने पर अपना अंगूठा काटकर उन्हें अर्पण कर दिया था. जिसके कुछ सालों बाद एकलव्य की मृत्यु हो गई थी. महाभारत में केवल इस प्रसंग में ही एकलव्य का उल्लेख मिलता है.

drona1

आज भी मृत्यु के लिए भटक रहा है महाभारत का एक योद्धा

गुरू द्रोण के इस छल के कारण ही उनका वध करने के लिए पाडंवों ने छल का सहारा लिया था. क्योंकि मनुष्य भूतकाल में किए हुए कर्मों को भूल सकता है लेकिन प्रकृति में निरंतर चलने वाला चक्र ‘कर्म’ सभी के कार्यों अनुसार ही फल देता है. द्रोण का यही पाप उनकी मृत्यु का कारण बना.  कुरुक्षेत्र के युद्ध में धृष्टद्युम्न ने अपने पूर्वजन्म का प्रतिशोध लेते हुए गुरू द्रोण की जीवन लीला समाप्त कर दी थी…Next

Read more

तो इस तरह महाभारत में सुनाई गई रामायण की कहानी

महाभारत युद्ध में अपने ही पुत्र के हाथों मारे गए अर्जुन को किसने किया पुनर्जीवित? महाभारत की एक अनसुनी महान प्रेम-कहानी

इनके अंशावतार थे महाभारत के ये प्रमुख पात्र


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *