Menu
blogid : 19157 postid : 1388438

भारत के इन 8 मंदिरों में मिलता है ऐसा प्रसाद जिसे सुनकर मुंह में आ जाएगा पानी, कहीं डोसा तो कहीं चॉकलेट

Pratima Jaiswal

27 Sep, 2019

बचपन में हमें पूजा या भगवान के मायने नहीं पता थे, बस हमारे माता-पिता जो हमें कह दिया करते थे उसी को मान लिया करते थे. हम में से कई लोग तो बचपन में बेमन मंदिर या पूजा बैठे रहते तो, वहीं कई बच्चे पूजा के बीच में ही झपकी लेने लगते थे, लेकिन एक ऐसा भी वक्त होता था जब बच्चों को मंदिर जाने में खास दिलचस्पी होती थी, वो वक्त था आरती का समय, यानि लगभग पूजा की समाप्ति और प्रसाद बंटने का समय. प्रसाद को खाने का अपना ही मजा होता था. हम सबको पता होता था कि प्रसाद का एक दाना या बूंद भी जमीन पर नहीं गिराना. लड्डू, बताशे, चनाअमृत, केला, सेब, पेठा, मिश्री-सौंफ या हलवा. प्रसाद के रूप में ज्यादातर यही चीजें मिला करती थी, लेकिन क्या आप जानते हैं देश के कई मंदिर ऐसे हैं जहां प्रसाद के रूप में ऐसी चीजें मिलती हैं जिसकी आपने कल्पना भी नहीं की होगी. आइए, डालते हैं एक नजर-

 

 श्रीपरमाहंस, मध्यप्रदेश

 

यहां पर प्रसाद के रूप में कुकीज मिलती है. लजीज चॉकलेट चिप के साथ कुकीज का प्रसाद लेने के लिए सबसे ज्यादा भीड़ बच्चों की रहती है.

 

 

 जगन्नाथ मंदिर, पुरी

 

अगर आपने एक पहर खाना नहीं खाया है, तो यहां का प्रसाद एक बार जरूर खा लीजिए. सारी भूख मिटकर आत्मा तृप्त हो जाएगी. 56 भोग यानि 56 व्यंजन वाला प्रसाद दुनिया भर में मशहूर है.

 

गोगामेंधी मंदिर, राजस्थान

प्याज और मसूर की दाल यहां पर प्रसाद के रूप में बांटी जाती है. जब देश में प्याज महंगे हो रहे थे, तो भी यहां प्रसाद की कमी नहीं हुई. कई लोगों का मानना है लोग यहां से प्रसाद के रूप में मिले प्याज को घर में सब्जी बनाने के लिए इस्तेमाल करते थे.

 

 गणपतिपुले मंदिर, महाराष्ट्र

 

 

बूंदी, पापड़ और खिचड़ी यहां प्रसाद के रूप में बांटे जाते हैं. कहा जाता है इस मंदिर जितनी स्वादिष्ट खिचड़ी और कहीं नहीं मिलती.

 

चाइनीज काली मंदिर, कोलकत्ता

 

अगर आपको घर में कोई नूडल्स खाने के लिए मना करें तो इस मंदिर में आकर आप यहां का प्रसाद खा लीजिए. कहा जाता है कि यहां पर हर दिन नूडल्स को अलग-अलग तरह से पकाया जाता है.

 

 

 अलागर कोविल मंदिर, तमिलनाडु

प्रसाद यहां खड़े होकर लाइन में नहीं बल्कि आराम से बैठाकर दिया जाता है. जैसे ही आप मंदिर के आंगन में पालथी मारकर बैठते हैं.  वैसे ही गर्मागर्म सांभर के साथ डोसा परोसा दिया जाता है.

 

 तिरूपति बालाजी, आंध्र प्रदेश

 

काजू-बादाम के स्वादिष्ट लड्डू को देखकर किसी के मुंह में भी पानी आ सकता है. माना जाता है इस लड्डू के साथ दिन की शुरूआत करने से आपका दिन शुभ होता है.

 

 

 मुरूगन स्वामी मंदिर, तमिलनाडु

 

फ्रूट जैम के दीवानों के लिए यहां का प्रसाद सबसे बेस्ट है. यहां आपको हर दिन अलग-अलग तरह के फलों का जैम मिलता है…Next

 

 

Read More:

दिवाली पर क्यों बनाते हैं घरों में रंगोली, वर्षों पुरानी है परंपरा

श्रीकृष्ण ने की थी गोवर्धन पूजा शुरुआत, जानें क्या है पूजा का महत्व

घरौंदा के बिना अधूरी है दीपावली, जानें इसे बनाने के पीछे क्या है कथा

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *