Menu
blogid : 19157 postid : 853275

क्यों इस मंदिर के शिवलिंग पर हर बारहवें साल गिरती है बिजली?

दिल्ली से 600 किलोमीटर की दूरी पर स्थित कुल्लू अपनी खूबसूरती और हरियाली के लिए पूरे विश्वभर में प्रचलित है. प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर इस पर्यटन स्थल को घाटियों में संगीत घोलते झरनों, वादियों, हरे-भरे मैदानों, चरागाहां और सेब के बागों की वजह से जाना जाता है.


mahadev-temple

लेकिन बहुत कम लोगों को मालूम है कि कुल्लू का इतिहास भगवान शंकर से भी जुड़ा है. यहां की प्रचीन मंदिर ‘बिजली महादेव’ शिव भक्तों के लिए आस्था का केंद्र भी है. यह मंदिर घाटी के ब्यास और पार्वती नदी के संगम के पास एक ऊंचे पर्वत के ऊपर बना हुआ है.


Read: मक्का-मदीना में गैर-मुस्लिम का जाना सख़्त मना है फिर भी इन्होंने मुस्लिम ना होते हुए भी मक्का में प्रवेश किया



क्या है मान्यता

कुल्लू घाटी के लोगों का मानना है कि कई हजार साल पहले कुलान्त नामक दैत्य यहां रहता था. अजगर की तरह दिखने वाला यह दैत्य ब्यास नदी के प्रवाह को रोककर घाटी को जलमग्न करना चाहता था. वह यहां रह रहे जीवजंतु को मिटाना चाहता था. लेकिन जब यह बात भगवान शिव को मालूम पड़ी तो उन्होंने दैत्य रूपी अजगर को अपने विश्वास में ले लिया. भगवान शिव ने उसके कान में कहा कि तुम्हारी पूंछ में आग लग गई है. इतना सुनते ही जैसे ही कुलान्त पीछे मुड़ा तभी शिव ने कुलान्त के सिर पर त्रिशूल से वार कर दिया. जिसके बाद उसकी मौत हो गई.


Bijli-Mahadev



कुलान्त के मरने के उपरांत

अजगर कुलान्त के मरने के उपरांत उसका शरीर विशालकाय पर्वत के रूप में तब्दील हो गया और पूरे क्षेत्र में फैल गया. ऐसा माना जाता है कि कुल्लू घाटी का बिजली महादेव से रोहतांग दर्रा और उधर मंडी के घोग्घरधार तक की घाटी कुलान्त के शरीर से निर्मित है. धारणा यह भी है कि कुल्लू का नाम कुलान्त के नाम से ही पड़ा.



Read: ऐसा क्या हुआ था कि विष्णु को अपना नेत्र ही भगवान शिव को अर्पित करना पड़ा?



बारह साल में एक बार बिजली गिरती है

कुलान्त दैत्य के मरने के बाद बारह साल में एक बार इस जगह पर बिजली गिरती है. ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव ने ही इंद्र से हर बारहवें साल में यहां आकाशीय बिजली गिराने को कहा था. साथ ही शिव यह नहीं चाहते थे कि बिजली गिरने से जन-धन का कोई नुकसान हो इसलिए ‘बिजली महादेव’ के मंदिर में बने शिवलिंग पर ही बिजली गिरती थी. भोलेनाथ लोगों को बचाने के लिए इस बिजली को अपने ऊपर गिरवाते हैं.


शिवलिंग पर बिजली गिरने से शिवलिंग चकनाचूर हो जाता है. शिवलिंग के टुकड़े इकट्ठा करके शिवजी का पुजारी मक्खन से जोड़कर स्थापित कर लेता है. कुछ समय पश्चात पिंडी अपने पुराने स्वरूप में आ जाती है. कुल्लू शहर से बिजली महादेव की पहाड़ी लगभग सात किलोमीटर है. जहां हर शिवरात्रि भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है. हर मौसम में दूर-दूर से लोग बिजली महादेव के दर्शन करने आते हैं…Next


Read more:

विष्णु के पुत्रों को क्यों मार डाला था भगवान शिव ने, जानिए एक पौराणिक रहस्य

शिव को ब्रह्मा का नाम क्यों चाहिए था ? जानिए अद्भुत अध्यात्मिक सच्चाई

क्या हर इंसान के पास होती है भगवान शिव की तरह तीसरी आंख?

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *