Menu
blogid : 19157 postid : 1323529

भीष्म ने इस कारण से नहीं किया द्रौपदी चीरहरण का विरोध, मृत्युशैया पर बताया था सत्य

महाभारत में एक योद्धा ऐसे थे जिन्होंने कौरवों की तरफ से युद्ध किया था लेकिन फिर भी उन्हें भीष्म पितामहा के नाम से जाना जाता है. भीष्म को धर्म का ज्ञान था लेकिन फिर भी अपने कर्तव्य का निर्वाह करने के लिए भीष्म को पांडवों के विरुद्ध युद्ध करना पड़ा.


drapaudi

लेकिन सभी बातों को परे छोड़ दें तो द्रौपदी चीरहरण के प्रसंग से जुड़ा एक सवाल मन में उठता है कि भीष्म ने द्रौपदी का अपमान होते देख उसका विरोध क्यों नहीं किया. आखिर क्यों वो अन्य महापुरुषों और योद्धाओं की तरह मौन रहे.


drapadi

महाभारत में एक कहानी है जब भीष्म पितामहा बाण शैय्या पर अपनी मृत्यु के क्षण गिन रहे थे तो पांडव गहन शोक में डूबे हुए थे. तभी भीष्म ने अपने आखिरी समय में सभी उपस्थित लोगों से अपनी ज्ञिज्ञासाओं को मिटाने के लिए कहा. सभी लोगों के प्रश्न पूछ लेने के बाद द्रौपदी ने भीष्म से बड़ा ही मार्मिक प्रश्न पूछा द्रौपदी ने कहा ‘भरी सभा में मेरे चीरहरण का आपने विरोध क्यों नहीं किया जबकि आप सबसे बड़े और सबसे सशक्त थे.


mahabharat5

तब भीष्म पितामह ने कहा ‘मनुष्य जैसा अन्न खाता है वैसा ही उसका मन हो जाता है. उस समय कौरवों का अधर्मी अन्न खा रहा था इसलिए मेरा दिमाग भी वैसा ही हो गया और तब मुझे उस कृत्य में केवल खेल के नियम ही दिख रहे थे, नैतिकता, स्त्री सम्मान, लाज-लज्जा आदि शब्द मेरे दिमाग में नहीं थे.


इसके अलावा मेरे ऊपर उनका अन्न खाने का ऋण था इसलिए मैं विरोध नहीं कर सका.’ भीष्म की बात सुनकर द्रौपदी ने एक व्यंग्यभरी मुस्कान बिखेरते हुए कहा ‘अधर्म के विरूद्ध बोलना सबसे बड़ा धर्म और कर्तव्य है, इससे बड़ा कोई तप नहीं’. …Next


Read More :

ऐसे मिला था श्रीकृष्ण को सुदर्शन चक्र, इस देवता ने किया था इसका निर्माण

भागवतपुराण : इस कारण से श्रीकृष्ण से नहीं मिल पाए थे शिव, करनी पड़ी 12,000 साल तक तपस्या

गांधारी के शाप के बाद जानें कैसे हुई भगवान श्रीकृष्ण की मृत्यु

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *