Menu
blogid : 9626 postid : 1295858

बनी अब राख पत्थर का किला है

Zindagi Zindagi

  • 319 Posts
  • 2418 Comments

खिली कलियाँ यहाँ उपवन खिला है
जहाँ में प्यार साजन अब मिला है

मिला जो प्यार में अब साथ तेरा
नहीं अब प्यार से कोई गिला है
..
दिखायें दर्द अपना अब किसे हम
हमारे दर्द का यह सिलसिला है
..
रहो पास’ हमारे रात दिन तुम
ज़मीं के संग अम्बर भी हिला है
….
लगा दी आग सीने में हमारे
बनी अब राख पत्थर का किला है

रेखा जोशी

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply