Menu
blogid : 20487 postid : 1331160

दुर्वासा ऋषि की समस्या

Digital कलम

Digital कलम

  • 17 Posts
  • 9 Comments

दुर्वासा ऋषि…नाम तो सुना ही होगा । जी हाँ…वही महान क्रोधी ऋषि, जिन के क्रोध से राजा से लेकर देवों तक में भय व्याप्त रहता था और तो और उन के भय के प्रकोप से श्री राम तक भी ना बच सके थे ।

कई युग बीत जाने के बाद, ऋषि को अहसास हुआ कि क्रोध की वजह से उनकी इमेज पर बुरा असर पड़ा है । क्रोध को मिटाने के लिए, उन्होंने ध्यान से लेकर योग तक पर हाथ आजमाया परन्तु ढाक के तीन पात । और फिर एक दिन, उन के परम मित्र इंद्र देव ने निर्मल बाबा से मिलने का विचार दिया । बस फिर क्या था ऋषि पहुँच गए पृथ्वी लोक में ।

“साहब, मुझे गुस्सा बहुत आता है…कुछ तो उपाय कीजिए…”, ऋषि के पश्चाताप से भरे शब्दों को सुन कर निर्मल बाबा का ह्रदय बाग़-बाग़ हो गया, होते भी क्यों ना, अब तो दूसरे युगों व लोकों से भी लोग आने लगे थे । InterWorld और InterEra फेमस शख़्सियत जो हो गए थे ।

“ठीक हो जाएगा, एक उपाय करो…इन्द्र के आसन पर बैठ कर, घुटनों तक आते अपने केशों की मालिश उर्वशी द्वारा करवा लीजिये, फायदा होना शुरू हो जाएगा । ध्यान रहे, तेल नवरत्न ही होना चाहिए ।”

“बाबा, लेकिन एक समस्या है । उर्वशी तो NRI से शादी कर के, देव लोक छोड़ USA में शिफ्ट हो गई है । कोई और अप्सरा यह कार्य कर सकती है क्या ?”

आशीर्वाद की मुद्रा में एक हाथ ऊपर उठा कर बाबा ने कहा, “अवश्य कर सकती है ।”, और यह सुन कर, दुर्वासा ऋषि अति प्रसन्न हो देव लोक के लिए अंतर्ध्यान हो गए ।

विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि दुर्वासा ऋषि अब बेहद शांत स्वभाव के हो गए हैं । न्यूज़ चैनल पर डिबेट शो देख कर भी वह अब शांत रहते हैं ।

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *