Menu
blogid : 11012 postid : 5

नेता का प्यार: चुनाव के पहले वोट,चुनाव के बाद नोट

कुछ कहना है ©
कुछ कहना है ©
  • 38 Posts
  • 41 Comments

भारत देश में हमारे माननीय नेता जी को दो चीजों से बड़ा प्यार होता है। उनकी हर समय कोशिश रहती है कि वे इन दोनों को कितना ज्यादा से ज्यादा हो सके अपनी झोली में भर लंे। आखिर ये दो चीजें कौन सी हैं जिन्हे हर नेता जी-जान से चाहता है, जी हां ये दो चीजें हैः वोट और नोट।
चुनाव के दरमियान नेता जी का दिमाग वोटों की गणित पर लगा होता है, कहां से कितना, ज्यादा से ज्यादा वोट लेने की कोशिश में नेता जी खून-पसीना एक कर देते है। बस वोट मिलना चाहिए चाहे जैसे भी मिले, ये रही नेता जी के पहले प्यार की दास्तान। और दूसरा प्यार उन पर इस कदर हावी रहता है कि पूछिए मत बस समझ जाइए। चुनाव के बाद अगले पांच वर्षों तक उनकी कोशिश रहती है कि कहां से कितना, ज्यादा से ज्यादा नोट अपनी थैली मंे भर लें, क्या पता अगली बार मौका मिले या न मिले। नेता पर ये वोट और नोट का प्यार इस कदर परवान चढ़ता है कि वे किसी भी हद तक जा सकते हैं, और इसका दंश झेलना पड़ता है बेचारे आम आदमी को जो आम की तरह चूस कर गुठली की तरह फेंक दिया जाता है।

Read Comments

    Post a comment

    Leave a Reply