Menu
blogid : 27998 postid : 9

कवि चंद की कविता ऐसी थी

प्रभात

  • 3 Posts
  • 0 Comment

कवि चंद की कविता ऐसी थी।
मुर्दे भी सुनकर फड़क उठें।।

चंद पृथ्वीराज का सेनापति,
दरबार में था दरबारी कवि।
कविता पढ़े जब युद्ध भूमि में ,
सैनिकों की भुजायें फड़क उठें।।

पृथ्वीराज गोरी का बंदी ,
पट्टी बंधी थी आँखों पर।
कवि चंद का दोहा सुनकर ,
तीर चलाया था गोरी पर।।

कवि चंद की कविता ऐसी थी।
मुर्दे भी सुनकर फड़क उठें।।
+Asharfi Lal Mishra*

​डिस्क्लेमर: उपरोक्त विचारों के लिए लेखक स्वयं उत्तरदायी हैं। जागरण डॉट काम किसी भी दावे या आंकड़े की पुष्टि नहीं करता है।

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *