Menu
blogid : 321 postid : 1389683

जब मौत को करीब से देखकर अटल बिहारी वाजपेयी ने लेखक धर्मवीर भारती को लिखी थी चिट्ठी

Pratima Jaiswal

16 Aug, 2018

जो कल थे,

वे आज नहीं हैं।

जो आज हैं,

वे कल नहीं होंगे।

होने, न होने का क्रम,

इसी तरह चलता रहेगा,

हम हैं, हम रहेंगे,

यह भ्रम भी सदा पलता रहेगा।

अटल बिहारी वाजपेयी देश के उन प्रभावशाली नेताओं में से एक जिनके अनगिनत किस्से आज दशकों बाद भी याद किए जाते हैं। एक प्रधानमंत्री के साथ-साथ अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी खूबसूरत कविताओं के लिए भी सराहा जाता है। लंबे वक्त से बीमार चल रहे अटल को बुधवार को लाइफ सपॉर्ट पर रखा गया तो देश-दुनिया में उनकी सेहत को लेकर दुआएं होने लगी। ऐसे में हम आपको उनकी जिंदगी से जुड़े हुए दिलचस्प किस्से बताने जा रहे हैं।

 

 

साल 1988 में जब वाजपेयी किडनी का इलाज कराने अमेरिका गए थे तब लेखक धर्मवीर भारती को लिखी एक चिट्ठी में उन्होंने मौत की आंखों में देखकर उसे हराने के जज्बे को कविता के रूप में सजाया था। तब उन्होंने एक कविता के माध्यम से अपने अनुभव को बताया था। वो कविता थी ‘मौत से ठन गई’।

ठन गई!

मौत से ठन गई!

जूझने का मेरा इरादा न था,

मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था,

रास्ता रोक कर वह खड़ी हो गई,

यूं लगा जिंदगी से बड़ी हो गई।

 

अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन पर आधारित किताब ‘हार नहीं मानूंगा’ में ये किस्सा लिखा हुआ है। इसके अलावा लेखकर धर्मवीर भारती को लिखी चिट्ठी में एक और किस्सा लिखा है। उन्होंने लिखा कि डॉक्टरों ने उन्हें सर्जरी की सलाह दी है। उसके बाद से वह सो नहीं पा रहे थे। उनके मन में चल रही उथल-पुथल ने इस कविता को जन्म दिया था।

 

 

दिलचस्प बात यह भी है कि अमेरिका में अटल को इलाज के लिए भेजने के पीछे एक बड़ा योगदान तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी का था। राजीव ने संयुक्त राष्ट्र को भेजे डेलिगेशन में अटल का नाम शामिल किया था ताकि इसी बहाने अटल अपना इलाज करा सकें। अटल हमेशा इस बात के लिए राजीव गांधी की महानता की सराहना करते रहे और कहते रहे कि राजीव की वजह से ही वह जिंदा हैं…Next

 

Read More :

कश्मीर पर एक बार फिर छिड़ा विवाद! क्या है आर्टिकल 35A, जानें पूरा मामला

मायावती ने उपचुनावों में सपा से दूरी बनाकर चला बड़ा सियासी दांव!

कर्नाटक में बज गया चुनावी बिगुल, ऐसा है यहां का सियासी गणित

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *