Menu
blogid : 321 postid : 650

Bhuwan Chandra Khanduri – उत्तराखंड के मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडुरी

b.c khanduriभुवन चंद्र खंडुरी का जीवन परिचय

उत्तराखंड के वर्तमान मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडुरी का जन्म 1 अक्टूबर, 1934 को देहरादून, उत्तराखंड में हुआ था. बी.सी. खंडुरी के नाम से लोकप्रिय सेनानिवृत्त मेजर जनरल भुवन चंद्र खंडुरी भारतीय जनता पार्टी के सदस्य हैं. इन्होंने अपनी शिक्षा इलाहाबाद विश्वविद्यालय, पुणे के कॉलेज ऑफ मिलिट्री, इंस्टिट्यूट ऑफ इंजीनियर्स, नई दिल्ली और इंस्टिट्यूट ऑफ डिफेंस मैनेजमेंट, सिकंदराबाद से संपन्न की है. 1954 से 1990 तक बी.सी. खंडुरी भारतीय सेना में कोर ऑफ इंजीनियर्स में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. सेना में अपनी उत्कृष्ट सेवा देने के लिए वर्ष 1982 में बी.सी. खंडुरी को राष्ट्रपति द्वारा अति विशिष्ट सेवा मेडल प्रदान किया गया. भुवन चंद्र खंडुरी के परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं.


भुवन चंद्र खंडुरी का राजनैतिक सफर

सेनानिवृत्त होने के बाद भुवन चंद्र खंडुरी ने राजनीति के क्षेत्र में प्रदार्पण किया. उत्तराखंड के गढ़वाल जिले से जीतकर वर्ष 1991 में वह पहली बार लोकसभा पहुंचे. अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार में भुवन चंद्र खंडुरी राज्य मंत्री बनाए गए. उन्हें सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार प्रदान किया गया. 2003 में वह कैबिनेट मंत्री भी बने. वर्ष 2007 में बी.सी. खंडुरी ने भारतीय जनता पार्टी को उत्तराखंड में बहुमत से जीत दिलवाई. इसके बाद वह प्रदेश के मुख्यमंत्री बनाए गए. 2009 में जब आम चुनावों में भारतीय जनता पार्टी एक भी सीट पर जीत दर्ज नहीं कर पाई तो बी.सी. खंडुरी ने नैतिक आधार पर जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया. 10 सितंबर, 2011 को रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ का स्थान लेते हुए बी.सी. खंडुरी ने दोबारा मुख्यमंत्री पद ग्रहण किया.


भुवन चंद्र खंडुरी भारतीय जनता पार्टी के एक वरिष्ठ नेता हैं. खंडुरी कई संसदीय समितियों में अपनी सेवाएं दे चुके हैं. मंत्री पद पर रहते हुए इन्होंने भारतीय जनता पार्टी के प्रतिष्ठित राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना को लागू किया.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *