Menu
blogid : 321 postid : 1390708

दिल्ली की गलियों में घूम-घूमकर वोट मांगने वाले ये उम्मीदवार खुद को नहीं दे पाएंगे वोट, परिवार से भी नहीं मिलेगा सपोर्ट

Pratima Jaiswal

2 May, 2019

लोकसभा चुनाव की सरगर्मी जोरों पर है। इस बार भी दिल्ली से लड़ने वाले उम्मीदवार सभी सातों सीटों को जीतने के लिए पूरा दमखम लगा रहे है। जमकर चुनाव प्रचार किया जा रहा है। ऐसे में सभी उम्मीदवारों की यही कोशिश है कि कैसे जनता का दिल जीता जाए। जनता का दिल किसने जीता इसका फैसला तो 23 मई के नतीजों को देखकर ही होगा लेकिन जनता के वोट मांगने वाले दिल्ली के उम्मीदवारों में से कुछ शूरमा ऐसे हैं, जो खुद को वोट नहीं कर पाएंगे। आखिर एक नजर उन उम्मीदवारों पर।

 

 

परिवार से भी नहीं मिलेगा वोट
चांदनी चौक लोकसभा से मौजूदा सांसद और भाजपा उम्मीदवार डॉ। हषवर्धन को अपना और परिवार दोनों का वोट नहीं मिलेगा क्योंकि वह और उनका परिवार पूर्वी दिल्ली के कृष्णा नगर विधानसभा क्षेत्र से मतदाता है। इसी तरह भाजपा के ही क्रिकेट स्टार और पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट से गौतम गंभीर को अपना व परिवार का वोट नहीं मिलेगा। क्योंकि वह राजेंद्र नगर इलाके से मतदाता हैं। उनका परिवार भी वहीं रहता है। हंसराज हंस पंजाब के जालंधर कैंट विधानसभा क्षेत्र से मतदाता हैं। वह दिल्ली में वोट ही नहीं कर पाएंगे। इसी तरह दिल्ली की तीन बार मुख्यमंत्री रहीं और उत्तर-पूर्वी दिल्ली से कांग्रेस की उम्मीदवार शीला दीक्षित खुद को वोट नहीं दे पाएंगी। क्योंकि वह निजामुद्दीन इलाके से मतदाता हैं, जो पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट के अंतर्गत आता है। कांग्रेस के ही राजेश लिलोठिया भी पटेल नगर से मतदाता हैं।

 

इन उम्मीदवारों के अलग संसदीय क्षेत्र और मतदान क्षेत्र
प्रत्याशी                                    संसदीय क्षेत्र                   मतदाता
आतिशी                                     पूर्वी दिल्ली                     नई दिल्ली
डॉ हर्षवर्धन                                चांदनी चौक                    पूर्वी दिल्ली
गौतम गंभीर                              पूर्वी दिल्ली                     नई दिल्ली
अजय माकन                             नई दिल्ली                      पश्चिमी
शीला दीक्षित                              उत्तर-पूर्व                     पूर्वी दिल्ली
विजेंद्र सिंह                                 दक्षिणी                         हरियाणा से
हंसराज हंस                            उत्तर-पश्चिमी             जालंधर कैंट, पंजाब

 

क्या है नियम
लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार देश में कहीं से भी वोटर हो, वह किसी भी लोकसभा सीट पर चुनाव लड़ सकता है। उसके लिए उसी राज्य या लोकसभा सीट पर मतदाता होना अनिवार्य नहीं है इसलिए हंसराज हंस और विजेंद्र सिंह पंजाब और हरियाणा का वोटर होते हुए भी दिल्ली में चुनाव लड़ रहे हैं। मगर, विधानसभा चुनाव में उस राज्य का वोटर होना अनिवार्य है। तभी वह उस राज्य में विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ सकता है।…Next

 

 

Read More :

दिल्ली से जुड़ा है देश की कुर्सी का 21 सालों का दिलचस्प संयोग, जानें अब तक कैसे रहे हैं आंकड़े

लोकसभा चुनाव 2019 : दिल्ली के सबसे अमीर उम्मीदवार हैं गौतम गंभीर, जानें राजधानी के बाकी उम्मीदवारों की संपत्ति

पहली बार चुनाव लड़ रहे कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ पिता से 5 गुना ज्यादा अमीर, इतने करोड़ के हैं मालिक

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *