Menu
blogid : 321 postid : 1390640

ममता बनर्जी के लिए चुनाव प्रचार करके बुरे फंसे फिरदौस अहमद, भारत सरकार से ब्लैक लिस्ट होकर वापस जाना पड़ा बांग्लादेश

Pratima Jaiswal

17 Apr, 2019

लोकसभा चुनाव 2019 में हर बार की तरह इस बार भी बयानबाजी, आरोप-प्रत्यारोप और स्टार चुनाव प्रचारकों का नजारा देखने को मिल रहा है। हर पार्टी की कोशिश है कि किस तरह से वोटर को लुभाकर ज्यादा से ज्यादा वोट अपने खाते में जोड़े जाएं। ऐसे में वोटर को लुभाने की कोशिश ममता बनर्जी को भारी पड़ गई। दरअसल, ममता बनर्जी ने बांग्लादेश के मशहूर एक्टर फिरदौस अहमद से अपना चुनाव प्रचार कराया दिया, जिसकी वजह से फिरदौस का वीजा कैंसिल हो गया। अहमद के पश्चिम बंगाल की रायगंज सीट पर तृणमूल कांग्रेस के उम्मीदवार के लिए चुनाव प्रचार करने को लेकर शिकायत मिलने के बाद ये फैसला लिया गया। बताया जा रहा है कि अभिनेता बिजनेस वीजा पर भारत आए थे और इस दौरान चुनाव प्रचार कर उन्होंने वीजा नियमों का उल्लंघन किया जिसकी वजह से उनका वीजा रद्द कर दिया गया।

 

 

कौन है एक्टर फिरदौस अहमद
एक्टर फिरदौस अहमद 200 से ज्यादा फिल्मों में काम कर चुके हैं। वह बांग्लादेश के साथ ही पश्चिम बंगाल में भी मशहूर हैं। उन्हें चार बार बेस्ट एक्टर के लिए बांग्लादेश नेशनल फिल्म अवॉर्ड मिल चुका है। अमार सपनो तुम्ही, एक कप चा, मिट्टी और होतात बृष्टी जैसी फिल्मों में काम कर चुके हैं। बांग्ला फिल्मों में वो काफी समय से एक्टिव हैं क्योंकि पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश की सीमाएं मिलती हैं, इसलिए दोनों का कल्चर लगभग एक जैसा ही है और तृणमूल कांग्रेस इसी का लाभ उठाने की कोशिश करती दिख रही है।

 

 

‘ब्लैक लिस्ट’ हुए फिरदौस अहमद
केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अहमद का नाम ‘ब्लैक लिस्ट’ में डाल दिया है। इससे भविष्य में भारत की उनकी यात्रा में बाधा आएगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने दिल्ली में कहा, ‘बांग्लादेशी नागरिक फिरदौस अहमद द्वारा वीजा उल्लंघन के संबंध में ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन से एक रिपोर्ट मिलने के बाद गृह मंत्रालय ने उनका बिजनेस वीजा रद्द कर दिया है और उन्हें लीव इंडिया नोटिस जारी किया है। उन्हें काली सूची में डाल दिया गया है। एफआरआरओ कोलकाता को इन आदेशों की तामील करने को कहा गया है। ‘

 

 

विदेशी से चुनाव प्रचार के बारे में आचार संहिता
किसी विदेशी का किसी पार्टी के लिए प्रचार करना आचार सहिंता का उल्लंघन नहीं है। पश्चिम बंगाल के मुख्य चुनाव अधिकारी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि विदेशी से चुनाव प्रचार कराने को लेकर मॉडल कोड ऑफ कंडक्ट में कुछ नहीं लिखा गया है। उन्होंने कहा था अगर उन्हें शिकायत मिलती है तो वो इस मामले को देखेंगे।

 

 

सोशल मीडिया पर हो रही है आलोचना
ममता बनर्जी के इस कदम को लेकर उनकी सोशल मीडिया पर खूब आलोचना हो रही है लेकिन तृणमूल कांग्रेस के नेता इसमें कोई बुराई नहीं बता रहे। उनका मानना है कि हम संस्क़ृति के आधार पर लोगों को लुभा रहे थे, यह आचार संहिता का उल्लघंन नहीं है।…Next

 

Read More :

मोदी सरकार के इस फैसले से खुश हुए हार्दिक पटेल, 2019 लोकसभा चुनाव में उतर सकते हैं मैदान में

कभी टीवी शो में ऑडियन्स पर बरसीं तो कभी कार्टूनिस्ट को कराया गिरफ्तार, ममता बनर्जी का विवादों से रहा है पुराना नाता

बीजेपी में शामिल हुई ईशा कोप्पिकर, राजनीति में ये अभिनेत्रियां भी ले चुकी हैं एंट्री

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *