Menu
blogid : 321 postid : 1391416

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान नहीं रहे, डीएसपी की नौकरी छोड़ राजनीति में आए और चुनाव जीत बनाया था रिकॉर्ड

Rizwan Noor Khan

8 Oct, 2020

लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक और केंद्र सरकार में मंत्री राम विलास पासवान का निधन हो गया है। उन्होंने दिल्ली के फोर्टिस असपताल में आखिरी सांस ली। चिराग पासवान ने पिता के निधन की पुष्टि करते हुए भावुक संदेश सोशल मीडिया पर शेयर किया है। 8 बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले रामविलास पासवान करियर के शुरुआती दिनों में बिहार पुलिस में डीएसपी पद पर सेलेक्ट हुए थे, लेकिन उन्होंने नौकरी की बजाय राजनीति के जरिए जनता की सेवा करने को प्राथमिकता दी।

File pic : PIB

फोर्टिस में सप्ताह भर से चल रहा था इलाज​
एएनआई की रिपोर्ट मुताबिक दिग्गज नेता रामविलास पासवान ने 8 अक्टूबर की शाम को इस ​दुनिया को अलविदा कह दिया। सीने में अचान​क दर्द होने पर उन्हें करीब एक सप्ताह पहले दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में एडमिट कराया गया था। आराम नहीं मिलने पर पिछले दिनों उनकी हार्ट सर्जरी की गई थी।

चिराग पासवान ने लिखा भावुक संदेश
20 साल पहले सन 2000 में एलजेपी की स्थापना करने वाले दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के बेटे और एलजेपी के अध्यक्ष चिराग पासवान ने सोशल मीडिया पर पिता के निधन की पुष्टि की। चिराग ने भावुक संदेश लिखते हुए पिता को याद किया। उन्होंने लिखा — ‘पापा….अब आप इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं।’

बिहार पुलिस में डीएसपी बने पर नहीं की नौकरी
बिहार के खगड़िया जिले में 5 जुलाई 1946 को दलित परिवार में जन्मे रामविलास पासवान ने कानून की मास्टर डिग्री हासिल की और सामाजिक कार्यों में जुट गए। 1969 में रामविलास पासवान बिहार पुलिस ने डीएसपी के पद पर चुने गए। बाद में वह राजनीति में उतर गए और सम्युक्त सोशलिस्ट पार्टी के सदस्य बन गए। वह पहली बार 1969 में बिहार विधानसभा में पहली बार चुनाव जीतकर पहुंचे।

लोकसभा चुनाव जीतने में रिकॉर्ड बनाया
रामविलास पासवान 1974 में लोकदल की स्थापना के वक्त जुड़ गए और पार्टी के महासचिव नियुक्त हुए। आपातकाल लागू होने पर उन्होंने विरोध किया तो गिरफ्तार किए गए। 1977 में उन्होंने जनता पार्टी के टिकट पर हाजीपुर सीट से चुनाव लड़ा और बड़ी जीत हासिल कर रिकॉर्ड बना दिया। इसके बाद वह लोकसभा चुनाव 1980, 1989, 1996, 1998, 1999, 2004 और 2014 में लगातार 8 बार जीत हासिल की। वर्तमान में वह राज्यसभा सांसद और एनडीए की केंद्र सरकार में उपभोक्‍ता मामले तथा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री थे।

File pic : ANI

राष्ट्रपति, पीएम समेत राजनीतिक दलों ने दुख जताया
एएनआई के मुताबिक भाजपा की केंद्र सरकार में उपभोक्‍ता मामले तथा खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री रहे रामविलास पासवान के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष, गृहमंत्री अमित शाह, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस, बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार, बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव समेत सभी राजनीतिक दलों के नेताओं और जानीमानी हस्तियों ने निधन पर गहरा दुख जताया और इसे भारतीय राजनीति के लिए बड़ी क्षति कहा।…NEXT

 

 

Read More : सिर्फ दो ​छुट्टियां लेने वाले डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम

विश्व के बेस्ट फाइनेंस मिनिस्टर चुने गए थे प्रणब मुखर्जी

छात्र राजनीति से निकले वीपी सिंह कैसे बने देश के प्रधानमंत्री, जानिए पूरी कहानी

किसान पिता से किया वादा निभाया और बने प्रधानमंत्री, रोचक है एचडी देवगौड़ा का राजनीति सफर

राष्ट्रपति का वो चुनाव जिसमें दो हिस्सों में बंट गई थी कांग्रेस, जानिए नीलम संजीव रेड्डी के महामहिम बनने की कहानी

जनेश्‍वर मिश्र ने जिसे हराया वह पहले सीएम बना और फिर पीएम

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *