Menu
blogid : 321 postid : 1391259

3 लाख कोरोना टेस्ट का आंकड़ा रोज पार होगा, टेस्टिंग पर प्रधानमंत्री मोदी ने कही ये बात

Rizwan Noor Khan

17 Jun, 2020

 

 

कोरोना वायरस को खत्म करने की कोशिशों में जुटा भारत अब सैंपल टेस्टिंग की गति और क्षमताओं को बढ़ाने पर जोर दे रहा है। वर्तमान में रोजाना 3 लाख सैंपल टेस्ट करने का आंकड़ा पार कर लिया है। इसे स्वास्थ्य मंत्रालय की कामयाबी माना जा रहा है। क्योंकि जितने ज्यादा टेस्ट होंगे उतनी जल्दी पॉजिटिव केस को पहचानने और उन्हें उपचार उपलब्ध कराने में आसानी होगी। टेस्टिंग को लेकर प्रधानमंत्री ने भी तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।

 

 

 

 

लगातार बढ़ते मामलों और मौतों ने चिंता में डाला
भारत में रोजाना कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही मौतों के आंकड़ों में दिनोदिन इजाफे से चिकित्सा विशेषज्ञ चिंता में हैं। पिछले 24 घंटों के कोरोना संक्रमण और मौतों के आंकड़ों ने सबको डरा दिया है। एक दिन में अब तक की सर्वाधिक 2003 मौतें दर्ज की गई हैं। जबकि, 10 हजार से ज्यादा नए केस सामने आए हैं।

 

 

 

ज्यादा से ज्यादा सैंपल टेस्ट पर अमल शुरू
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना महामारी को थामने के लिए विशेषज्ञों ने पहले ही ज्यादा से ज्यादा लोगों के सैंपल टेस्ट करने के सुझाव दिए थे। इन सुझावों पर अब अमल शुरू होने वाला है। आईसीएमआर ने कहा है कि वह हर दिन टेस्टिंग के आंकड़ों को बढ़ाने वाला है।

 

 

 

 

रोजाना होंगे 3 लाख सैंपल टेस्ट
आईसीएमआर की रिपोर्ट के मुताबिक अब रोजाना पूरे देश में 3 लाख से ज्यादा सैंपल टेस्ट किए जाएंगे। इसके लिए देशभर में 907 लैबोरेट्रीज को मंजूरी दी गई है। इससे कोरोना संक्रमित मरीजों की तत्काल पुष्टि और उन्हें इलाज उपलब्ध कराने में सहूलियत होगी। अब तक 6084256 लाख टेस्ट किए जा चुके हैं। 16 जून को 163187 टेस्ट किए गए हैं।

 

 

 

 

पीएम मोदी बोले— स्वास्थ्य ढांचे ​का विस्तार प्राथमिकता
मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना को रोकने के लिए किए जा रहे प्रयासों और सुझावों पर चर्चा की। इस दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के बढ़ते हुए मरीज़ों की संख्या को देखते हुए स्वास्थ्य ढांचे का विस्तार करना,हर जीवन को बचाना हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए।

 

 

 

 

कोरोना सैंपल टेस्टिंग बढ़ाने पर जोर
प्रधानमंत्री ने कहा कि हम लोगों कोरोना से तभी बचा सकते हैं जब प्रत्येक मरीज को उचित इलाज मिलेगा। इसके लिए हमें ​टेस्टिंग पर और अधिक बल देना है। ताकि संक्रमित व्यक्ति को हम जल्द से जल्द ट्रेस और ट्रैक करने के साथ ही आइसोलेट कर सकें। उन्होंने कहा कि हमें इस बात का ध्यान रखना है कि हमारी वर्तमान टेस्टिंग क्षमता का पूरा इस्तेमाल हो और निरंतर उसका विस्तार भी किया जाए।…NEXT

 

 

 

Read More :

किसान पिता से किया वादा निभाया और बने प्रधानमंत्री, रोचक है एचडी देवगौड़ा का राजनीति सफर

राष्ट्रपति का वो चुनाव जिसमें दो हिस्सों में बंट गई थी कांग्रेस, जानिए नीलम संजीव रेड्डी के महामहिम बनने की कहानी

जनेश्‍वर मिश्र ने जिसे हराया वह पहले सीएम बना और फिर पीएम

फ्रंटियर गांधी को छुड़ाने आए हजारों लोगों को देख डरे अंग्रेज सिपाही, कत्‍लेआम से दहल गई दुनिया

ये 11 नेता सबसे कम समय के लिए रहे हैं मुख्‍यमंत्री, देवेंद्र फडणवीस समेत तीन नेता जो सिर्फ 3 दिन सीएम रहे

 

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *