Menu
blogid : 321 postid : 1391065

अरविंद केजरीवाल अपने ही मंत्रियों की निगरानी करेंगे, अपने पास मंत्रालय न रखने पर दिया ये जवाब

भारी बहुमत के साथ लगातार तीसरी बार सत्‍ता पर काबिज हुई आम आदमी पार्टी के मुखिया अपने नेताओं को कोई ढील नहीं देने वाले हैं। अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि निगरानी का आसान और जरूरी है। उन्‍होंने दावा किया कि वह दिल्‍ली को पानी कि किल्‍लत नहीं होने देंगे। केजरीवाल ने बताया कि नई सरकार ने तेजी से काम करना शुरू कर दिया है।

Rizwan Noor Khan
Rizwan Noor Khan 19 Feb, 2020

 

 

 

 

तीसरी बार दिल्‍ली की सत्‍ता
दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद इसी महीने आए रिजल्‍ट में आम आदमी पार्टी ने विपक्षी दलों को करारी हार का मुंह दिखाया। आप ने इस चुनाव में 70 में 62 सीटों पर कब्‍जा किया है। विपक्षी पार्टी भाजपा ने 8 सीटों पर जीत हासिल की। जबकि, कांग्रेस और अन्‍य दलों का खाता नहीं खुल सका था। जनता ने आप के पिछले कामों पर भरोसा जताते हुए इस बार भी सत्‍ता सौंपी है।

 

 

 

पेयजल और विकास का दावा
अरविंद केजरीवाल ने 19 फरवरी की प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि वह दिल्‍ली में पानी की किल्‍लत किसी भी कीमत पर नहीं होने देंगे। पिछली बार भी भरपूर पानी की सप्‍लाई दी गई थी। इस बार भी खूब पानी दिल्‍ली वालों को मिलने वाला है। केजरीवाल ने बताया कि नई सरकार ने तेजी के साथ कामकाज शुरू कर दिया है। पूरी तेजी के साथ बिना एक भी मिनट बर्बाद किए दिल्‍ली के विकास के लिए 24 घंटे काम चलेगा।

 

 

 

 

मॉनिटरिंग करना आसान और जरूरी
केजरीवाल ने बताया कि सभी मंत्रियों ने कामकाज संभाल लिया है। एक दो को छोड़कर सभी को पहले वाले मंत्रालय ही दिए गए हैं। उन्‍होंने अपने पास कोई मंत्रालय न रखने का कारण बताते हुए कहा कि पिछली बार भी उन्‍होंने अपने पास कोई मंत्रालय नहीं रखा था। बाद में कुछ दिनों के लिए जलबोर्ड का कामकाज उनके हाथ आया था। उन्‍होंने कहा कि अपने पास मंत्रालय न रखने से दूसरों की मॉनिटरिंग करने में आसानी रहती है।

 

 

 

 

 

कैबिनेट बैठक में विकास प्रस्‍ताव मांगे
अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मुख्‍यंत्री का सबसे बड़ा काम यही है कि वह सभी मंत्रियों पर निगरानी बनाए रखे। उन्‍होंने बताया कि सभी मंत्रियों, विभागों के प्रमुखों और अफसरों के साथ मीटिंग में चुनाव के दौरान किए वादों को पूरा करने को लेकर विस्‍तार से चर्चा की गई और विभागों को प्‍लान बनाकर देने के निर्देश दिया गया है। इसमें विभाग प्रमुखों से मांगे गए प्रस्‍ताव में समय, पैसा और संसाधनों लगने का ब्‍योरा मांगा गया है ताकि वादों को जल्‍द से जल्‍द पूरा किया जा सके। इससे पहले केजरीवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से उनके आवास पर मुलाकात की।…NEXT

 

 

 

Read More :

जनेश्‍वर मिश्र ने जिसे हराया वह पहले सीएम बना और फिर पीएम

फ्रंटियर गांधी को छुड़ाने आए हजारों लोगों को देख डरे अंग्रेज सिपाही, कत्‍लेआम से दहल गई दुनिया

ये 11 नेता सबसे कम समय के लिए रहे हैं मुख्‍यमंत्री, देवेंद्र फडणवीस समेत तीन नेता जो सिर्फ 3 दिन सीएम रहे

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *