Menu
blogid : 321 postid : 1307

सुरक्षा नियमों का पालन तो करना ही था

सपा नेता और यूपी कैबिनेट में नगर विकास मंत्री आजम खान को सुरक्षा जांच के नाम पर बोस्टन एयरपोर्ट पर रोके जाने के विरोध में आजम खान और सपा नेताओं ने रोष प्रकट किया है. जहां उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपना भाषण का कार्यक्रम रद्द कर वापस आ गये, वहीं आजम ने इसे विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद की उन्हें अपमानित करने की सोची-समझी चाल बताया. गौरतलब है इलाहाबाद में कुंभ मेले की सफलता के विषय में यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भाषण देने के लिये हॉवर्ड यूनिवर्सिटी में आमंत्रित किया गया था और नगर विकास मंत्री भी उनके साथ गये थे. बोस्टन हवाई अड्डे पर आजम खान को अलग बुलाकर पूछताछ की गयी जिसके विरोध में सीएम ने अपना भाषण कार्यक्रम रद्द कर दिया. आजम का आरोप है कि भारतीय दूतावास से उन्हें लेने आये अधिकारियों के सामने बोस्टन एयरपोर्ट के अधिकारियों ने उन्हें पूछताछ के लिये रोक लिया पर उन्होंने इसके विरोध में कुछ भी नहीं कहा क्योंकि विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद ने यह सब जानबूझकर विदेशी धरती पर उन्हें अपमानित करने के लिये किया.


Read: कहीं आपके बच्चे की कमजोरी का कारण फेसबुक तो नहीं?


सलमान खुर्शीद ने इसे एक छोटी घटना मानते हुए इसे ज्यादा तवज्जो नहीं दिये जाने की बात कही. उनके अनुसार इमिग्रेशन प्रॉसेस अमेरिका की सुरक्षा प्रक्रिया का एक हिस्सा है और इससे पूर्व राष्ट्रपति डॉ. कलाम से लेकर बॉलीवुड सितारे शाहारुख खान तक गुजरे हैं. इसे राजनीतिक रंग नहीं दिया जाना चाहिये. आजम द्वारा उन पर विदेशी धरती पर अपमानित किये जाने की साजिश रचने की बात पर उन्होंने कहा कि इसे अमेरिका की सुरक्षा प्रक्रिया के नियमों से गुजरना ही समझा जाना चाहिये. अगर आजम को लगता है कि उनके साथ बदसलूकी हुई है तो भारत सरकार इसके लिये अमेरिकी विदेश मंत्रालय से बात करेगी लेकिन यह हर भारतीय के लिये होगा न कि सिर्फ इसलिए कि किसी राजनीतिक व्यक्ति को इससे गुजरना पडा.


Read: व्यक्ति-विशेष के गुनाह को समुदाय या क्षेत्र से जोड़ना कहाँ तक उचित है?


बहरहाल आजम का सलमान खुर्शीद पर आरोप राजनीतिक विवाद का रूप लेने लगा है. सपा के नेता इस पर कार्रवाई न किये जाने पर कड़े कदम उठाये जाने की बात कर रहे है, यहां तक कि यूपीए सरकार को समर्थन पर पुनर्विचार करने की बात भी करते हैं. हालांकि यह इतना बड़ा मुद्दा नहीं है कि इस पर इतना राजनीतिक घमासान किया जाये. सपा और आजम को अमेरिकी सुरक्षा प्रक्रिया को एक अलग रूप नहीं देना चाहिए. अगर भारत के राष्ट्रपति कलाम इस प्रक्रिया से गुजर सकते हैं तो वह तो फिर भी एक राज्य के मंत्री हैं.



Read:

जब नागरिक अधिकार खतरे में पड़ गए

ममता का भतीजा चिट फंड कंपनी का मालिक !!

ममता बनर्जी चाहतीं तो रोका जा सकता था शारदा घोटाला

शायद पीएम इन वेटिंग बन ही जाएं प्रधानमंत्री


Tags: Azam Allegations on Salaman Khurshid, Azam Khan, Salman Khurshid, Cabinet Minister, Ministry of External Affairs, Aakhilesh Yadav, A. P. J. Abdul Kalam, Boston Airport, Boston,Samajwadi Party, आजम खान, सलमान खुर्शीद.



Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *