Menu
blogid : 321 postid : 668

Jaya Bachchan – सशक्त अभिनेत्री व राजनीतिज्ञ जया बच्चन

jaya bachchanजया बच्चन का जीवन परिचय

बेजोड़ अभिनय क्षमता की धनी जया भादुड़ी का जन्म 9 अप्रैल, 1948 को जबलपुर, मध्य-प्रदेश में हुआ था. बंगाली माता-पिता की संतान जया भादुड़ी राज्य सभा सदस्या के तौर पर राजनीति के क्षेत्र में भी अपने हाथ आजमा चुकी हैं. जया भादुड़ी के पिता तरुण कुमार भादुड़ी बंगाली भाषा के जाने-माने लेखक, पत्रकार और रंगकर्मी थे. पिता से प्रभावित होने के कारण जया भादुड़ी ने सेंट जोसफ कॉंवेंट स्कूल, भोपाल से पढ़ाई पूरी करने के बाद अभिनय के क्षेत्र में प्रदार्पण करने का निर्णय लिया. जया भादुड़ी ने पुणे स्थित मशहूर फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया में दाखिला लिया और स्वर्ण पदक के साथ स्नातक की उपाधि ग्रहण की. वर्ष 1966 के गणतंत्र दिवस की परेड में जया भादुड़ी को सर्वश्रेष्ठ एन.सी.सी. कैडेट का सम्मान प्रदान किया गया. 3 जून, 1973 को जया भादुड़ी का विवाह मशहूर फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन के साथ संपन्न हुआ. इन दोनों के दो बच्चे अभिषेक बच्चन और श्वेता नंदा हैं.


जया बच्चन का फिल्मी सफर

जया बच्चन को एक स्वाभाविक अभिनेत्री के रूप में जाना जाता है. बाल कलाकार के तौर पर फिल्मी दुनियां में कदम रखने वाली जया बच्चन ने ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्म गुड्डी से अदाकारा के रूप में अपने कॅरियर की शुरूआत की. उपहार, कोशिश, कोरा कागज जया बच्चन की शुरूआती फिल्में हैं जिनमें जया बच्चन ने बड़ी मजबूती के साथ अपनी अभिनय क्षमता का परिचय दिया है. जया बच्चन ने अपने पति अमिताभ बच्चन के साथ कई फिल्मों में काम किया है जिनमें से अभिमान, शोले, चुपके-चुपके, जंजीर आदि प्रमुख हैं. वर्ष 1981 में प्रदर्शित हुई फिल्म सिलसिला फिल्म के पश्चात जया बच्चन ने फिल्मी दुनियां से दूरी बना अपना सारा ध्यान बच्चों की परवरिश पर केन्द्रित कर लिया. 1998 में गोविंद तेहलानी की फिल्म हजार चौरासी की मां के साथ एक बार फिर जया बच्चन ने बॉलिवुड की ओर रुख किया. जया बच्चन ने फिजा (2000), कभी खुशी कभी गम (2001), कल हो ना हो (2003) जैसी महत्वपूर्ण और संजीदा फिल्मों में भी अपनी अभिनय क्षमता का परिचय दिया है.


राजनीति के क्षेत्र में जया बच्चन

जया बच्चन समाजवादी पार्टी की सदस्या हैं. वर्ष 2004 में जया बच्चन को राज्यसभा के सदस्य के तौर पर चयनित किया गया. उस समय जया बच्चन उत्तर प्रदेश फिल्म डेवलपमेंट काउंसिल के अध्यक्ष के तौर पर अन्य लाभ के पद पर अपनी सेवाएं दे रही थीं. कांग्रेस के विरोध के कारण भारत के राष्ट्रपति ने जया बच्चन को राज्यसभा सदस्य के पद से इस्तीफा देने को कहा जिसके परिणामस्वरूप जया बच्चन अपना यह कार्यकाल पूरा नहीं कर पाईं.


जया बच्चन को दिए गए गए सम्मान


  • वर्ष 1992 में जया बच्चन को भारत सरकार द्वारा पद्म श्री प्रदान किया गया.
  • जया बच्चन को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ सम्मान यश भारती सम्मान से नवाजा गया.
  • वर्ष 2010 में लंदन में हुए फिल्म फेस्टिवल में जया बच्चन को लाइफ टाइम अचीवमेंट का सम्मान दिया गया.

इनके अलावा जया बच्चन ने छ: फिल्मफेयर अवॉर्ड्स जीते हैं. वर्ष 2007 में जया बच्चन को फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया है.


Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *