Menu
blogid : 26149 postid : 3625

दो जीराफ ने दुनियाभर के पशुविज्ञानियों की चिंता बढ़ाई, अलग कद-काठी ने अनोखा बनाया

Rizwan Noor Khan

7 Jan, 2021

दुनियाभर के पशुविज्ञानी इन दिनों दो जीराफ के कद-काठी को लेकर चिंता में पढ़ गए हैं। अपनी प्रजाति के अनुरूप दोनों जीराफ के शरीर की बनावट में काफी फर्क देखा गया है। इन जीराफ पर शोध और जांच के लिए वैज्ञानिकों की कई टीमें लगी हुई हैं। दोनों जीराफ अफ्रीका महाद्वीप की अलग अलग सफारी में संरक्षित किए गए हैं।

Image courtesy: Girrafe Conservation Foundation

युगांडा और नामीबिया में मिले जीराफ
अफ्रीका महाद्वीप के दो देशों युगांडा और नामीबिया में दो जीराफ अपनी अनोखी कद-काठी की वजह से पशु विज्ञानियों के बीच चर्चा का केंद्र बने हुए हैं। डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार दोनों जीराफ के शरीर की ऊंचाई बेहद कम है। वैज्ञानिकों ने इन्हें दुनिया के सबसे छोटे जीराफ कहा है।

5 साल में नहीं बढ़ा शरीर का कद
वन्यजीव संरक्षण के लिए काम करने वाले वैज्ञानिकों के अनुसार युगांडा के मर्चीसन फाल्स नेशनल पार्क में न्यूबियन प्रजाति के गिमिल नाम के जीराफ को 2015 में पहली देखा गया था। तब उसकी ऊंचाई को लेकर वैज्ञानिक चिंतित थे। उसे जुलाई 2020 में फिर से देखा गया तो वह औसत ऊंचाई से भी कम ऊंचे कद का मिला।

Image courtesy: Girrafe Conservation Foundation via Daily Mail

औसत ऊंचाई से आधा कद बना समस्या
वैज्ञानिकों के अनुसार एक जीराफ की औसत ऊंचाई 18 फीट होती है। लेकिन युगांडा में मिले गिमिल जीराफ की ऊंचाई सिर्फ 9.4 फीट ही है। वहीं, नामीबिया में मिले अंगोलन जीराफ नाइजिल की ऊंचाई सिर्फ 8.6 फीट है। दोनों जीराफ अपनी औसत ऊंचाई से लगभग आधे कद के हैं।

Image courtesy: Girrafe Conservation Foundation via Daily Mail

बौनेपन का शिकार हैं दोनों जीराफ
वैज्ञानिकों ने दोनों जीराफ को दुर्लभ फिजि​कल डिसआर्डर की वजह से बौनेपन का शिकार बताया है। दोनों जीराफ की ऊंचाई कम होने की बड़ी वजह उनके पैरों का छोटा होना भी है। दोनों जीराफ के पैर और शरीर किसी उम्दा नस्ल के घोड़े के समान दिखते हैं। जीराफ की गर्दन भी औसत से बेहद कम ऊंची है।…NEXT

Read more: 500 कौवों की मौत के बाद 4 प्रदेशों में अलर्ट

2020 के सबसे चर्चित चेहरे, जज्बे ने शोहरत दिलाई

साल 2020 की बेस्ट 3 तस्वीरें, देखें

साल 2020 में ट्विटर पर छाए रहे 6 ट्वीट

नवंबर ने गर्मी के सारे रिकॉर्ड तोड़े, 2020 तीसरा सबसे गर्म साल

सबसे ज्यादा विश्व की ऐतिहासिक धरोहरें इस देश में, जानें

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *