Menu
blogid : 26149 postid : 2955

आलसपन की हद- हुक्का पीते पीते आग लग गई पर बुझाने नहीं उठे, 80 साल पुराने भारत के पहले आलसी क्लब के किस्से

Rizwan Noor Khan

10 Aug, 2020

 

 

आज के जमाने में आलसी होना मतलब बेकार का आदमी होना माना जाता है। जो लोग आलस करते हैं उन्हें सबसे बड़े लापरवाह की श्रेणी में भी रखा जाता है। करीब 80 साल पहले भारत में एक ऐसी ही आलसी क्लब की शुरुआत हुई थी। जहां एक से बड़कर एक आलसी जाया करते थे।

 

 

 

 

 

भोपाल में था पहला आलसी क्लब
विश्व आलसी दिवस के मौके पर भोपाल निवासी मशहूर साहित्यकार श्याम मुंशी ने देश के पहले आलसी क्लब के किस्से एएनआई के साथ साझा किए। उन्होंने बताया कि देश के पहले आलसी क्लब की स्थापना भोपाल में की गई थी। इस क्लब की शुरुआत 1940 में साहित्यकार जिगर मुरादाबादी ने की थी और वह इस क्लब के अध्यक्ष भी थे। इस क्लब का नाम दार उल कोहला रखा गया। क्लब में एक से एक काहिल और आलसी लोग जुटते थे।

 

 

 

 

 

आलसपन में आग लग पर बुझाई नहीं
आलसपन की हद क्या होती है। इसको एक हकीकी घटना से जानते हैं। एक बार क्लब में जुटे एक साहित्यकार सदस्य ने आलसपन की वो हद दिखाई कि क्लब के मेंबर आश्चर्यचकित रह गए। दरअसल, आलसपन में सदस्य हुक्का पी रहे थे कि तभी नीचे बिछी दरी ने आग पकड़ ली। सदस्य ने आलसपन में आग को बुझाया तक नहीं। बाद में पहुंचे दूसरे सदस्य ने धुएं से भर चुके कमरे की आग बुझाई और दरवाजे खिड़कियां खोलकर धुआं बाहर निकाला।

 

 

 

 

 

लेटे लेटे ही होती थी शेरो-शायरी
साहित्यकार श्याम मुंशी ने बताया कि भोपाल के लोगों का एक मिजाज रहा है कि वो कोई भी काम आराम से बिना आपाधापी के करना पसंद करते हैं। इसी वजह से कुछ उभरते साहित्यकारों ने 1930-1940 के आसपास काहिलों के क्लब को बनाया था। यहां शेरो—शायरी का लंबा दौर चलता था, लेकिन सबकुछ लेटे लेटे ही होता था। अत्यधिक जरूरत होने पर खाने पीने के लिए उठा जा सकता था लेकिन अध्यक्ष के हुक्म पर ही।

 

 

 

 

 

मेंबर बनने के लिए तकिया लाना अनिवार्य था
साहित्यकार श्याम मुंशी बताते हैं कि क्लब रात 9 बजे से रात 3 बजे तक ही खुलता था। हर मेंबर को रोजाना हाजिरी देनी होती थी। लेटा हुआ मेंबर बैठे हुए को और बैठा हुआ मेंबर खड़े हुए को हुक्म दे सकता था। आलसीपन का आलम ये था कि कोई काम न बता दे इसलिए लोग लेटे लेटे या फिर लुढ़के लुढ़के ही अंदर आते थे। क्लब की मेंबरशिप के लिए सिर्फ एक तकिया लाना होता था।…NEXT

 

 

 

Read more:

5 हजार साल पुराने दो बर्फ के पहाड़ गायब होने से खलबली, तलाश में जुटी वैज्ञानिकों की टीम

कैदियों को ड्रग्स सप्लाई करने वाली खतरनाक बिल्ली जेल से फरार

दुनिया के सबसे बहादुर चिंपैंजी ने ‘ग्रेजुएशन’ पूरा किया, अनोखी खूबी वाला इकलौता एनीमल

आधुनिक इतिहास की सबसे बड़ी पशु त्रासदी, एक साल के अंदर 300 करोड़ जानवरों की जिंदगी तबाह

इन क्यूट हरे सांपों को पकड़ना सबसे मुश्किल, बिना तकलीफ दिए डसने में माहिर

मधुमक्खियों में फैल रही महामारी, रिसर्च में खुलासा- खतरे में हैं दुनियाभर की मधुमक्खियां

 

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *