Menu
blogid : 26149 postid : 1983

दिन भर में 1 घंटे भी ‘मेहनत’ नहीं करती लड़कियां, कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों का खतरा बढ़ा

Rizwan Noor Khan

25 Nov, 2019

टीनएज लड़कियां शारीरिक सक्रियता के मामले में बेहद पीछे हैं। वैश्विक रिपोर्ट में खुलासे के बाद से उनके गंभीर बीमारियों की चपेट में आने के खतरे बढ़ गए हैं। रिपोर्ट में खुलाया किया गया है कि 24 घंटे में टीनएजर्स एक घंटे भी शारीरिक मेहनत नहीं करते हैं। उनकी कम होती फिजिकल एक्टिविटी से यूनाइटेड नेशंस ने चिंता जताई है।

 

 

 

 

मंदबुद्धि, अपंग और कैंसर का खतरा
वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) की ताजा रिपोर्ट के खुलासे से अभिभावकों की चिंता बढ़ गई है। क्‍योंकि 146 देशों के बच्‍चों पर किए गए शोध में पाया गया है कि वह फिजिकली एक्टिव नहीं हैं। ऐसे में वह मोटापा, अपंगता, मंदबुद्धि, कैंसर और अर्थराइटिस जैसी गंभीर बीमारियों की चपेट में आ सकते हैं। लगातार 15 साल तक किए गए शोध के बाद यह रिपोर्ट जारी की गई है।

 

 

 

 

15 तक शोध के बाद आई रिपोर्ट
शोधकर्ताओं की टीम को लीड करने वाली डब्‍ल्‍यूएचओ की डॉक्‍टर रेजिना गटहोल्‍ड ने टीनएज बच्‍चों की कम होती शारीरिक सक्रियता पर चिंता जताई है। उन्‍होंने बताया कि शोधार्कताओं ने 11 से 17 साल तक के लड़के और लड़कियों पर 15 साल तक उनकी दिनचर्या पर नजर रखी है। 24 घंटे में सिर्फ एक घंटे फिजिकल एक्टिविटी करने का पैमाना तय किया गया।

 

 

Image

 

60 सेकेंड भी शारीरिक मेहनत नहीं
रिपोर्ट के मुताबिक एक घंटे के पैमाने पर भी यह टीनएजर्स खरे नहीं उतर सके हैं। इसमें 80 फीसदी गर्ल्‍स हैं जो यह पैमाना नहीं छू सकी हैं। 60 सेकेंड यानी एक घंटे के पैमाने पर गर्ल्‍स के खरे नहीं उतरने का संकेत है कि वह भविष्‍य में गंभीर शारीरिक और मानसिक बीमारियों का शिकार हो सकती हैं। शोधकर्ता मानते हैं कि फिजिकल एक्टिविटी कम बच्‍चे शाई नेचर के होते जा रहे हैं और सेल्‍फ मोड में भी जा रहे हैं।

 

 

Image

 

 

बच्‍चों की शारीरिक एक्टिविटी बढ़ाएं
डब्‍ल्‍यूएचओ के शोधकर्ताओं और चिकित्‍सकों ने अभिभावकों को ज्‍यादा सचेत रहने की जरूरत बताई है। सलाह दी है कि बच्‍चों को फिजिकल एक्टिविटी के लिए इनकरेज करें और उन्‍हें गैजेट्स से दूर करना शुरू करें। योग, व्‍यायाम, कसरत और मॉर्निंग वॉक में साथ भी ले जा सकते हैं। इसके अलावा बच्‍चों को आउटडोर स्‍पोर्ट्स, साइक्लिंग, स्विमिंग करने के लिए प्रेरित करें। विशेषज्ञों के मुताबिक अभिभावक अगर अपने बच्‍चों से इन स्‍टेप्‍स को फॉलो करा लेते हैं तो उनका भविष्‍य और स्‍वास्‍थ्‍य संवारा जा सकता है।…Next

 

 

Read more:

हर रोज 10 में 9 लोगों की मौत फेफड़ों की बीमारी सीओपीडी से, एक साल में 30 लाख लोगों की गई जान

घुटनों का दर्द छूमंतर कर देगा अदरख और हल्‍दी का लेप, जानिए सेब और संतरा कैसे दूर करता है हड्डियों का दर्द

टीपू सुल्‍तान ने ऐसा क्‍या किया जो कहलाए फॉदर ऑफ रॉकेट, जानिए कैसे अंग्रेजों के उखाड़ दिए पैर

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *