Menu
blogid : 26149 postid : 2129

10 दिन तक चलेगा ताज महोत्‍सव, इस बार होंगी ये नई चीजें, जानें कब और क्‍यों हुई थी शुरुआत

Rizwan Noor Khan

18 Feb, 2020

दुनिया की सबसे खूबसूरत धरोहरों में शुमार ताज महल जिस शहर में है वह अगले 10 दिनों के लिए व्‍यस्‍त होने वाला है। दरअसल, आगरा में ताज महोत्‍सव की शुरुआत हो रही है। 18 फरवरी से शुरू होने वाले इस राष्‍ट्रीय समारोह में कई नई चीजों और कार्यक्रमों को शामिल किया गया है। जिसे, देखकर लोग दंग होने वाले हैं। आइए जानते हैं ताज महोत्‍सव का इतिहास।

 

 

 

 

दुनियाभर से पहुंचे दर्शक
मोहब्‍बत की निशानी ताज महल के लिए मशहूर शहर आगरा यहां हर साल होने वाले ताज महोत्‍सव के लिए भी दुनियाभर में चर्चा हासिल करता है। इस महोत्‍सव में दुनिया के हर कोने से पर्यटक शामिल होने आते हैं। उत्‍तर प्रदेश सरकार के पर्यटन और संस्‍कृति मंत्रालय की ओर से आयोजित होने वाले महोत्‍सव का आगाज संस्‍कृति के रंग ताज के संग थीम संगीत से हो रहा है।

 

 

 

 

इस बार क्‍या है नया
हर साल की भांति इस बार भी ताज महोत्‍सव को भव्‍य तरीके से आयोजित किया जा रहा है। इसलिए महोत्‍सव में कई खास कार्यक्रमों को भी शामिल किया गया है। खास बात है कि महोत्‍सव में रामायण पर आधारित कार्यक्रमों के साथ ही आधुनिक बॉलीवुड नाइट को भी शामिल किया गया है। इस महोत्‍सव को हर उम्र और वर्ग के लोगों को ध्‍यान में रखकर कार्यक्रमों को समाहित किया गया है।

 

 

 

 

आगरा का जन्‍म और ताजमहल
दिल्‍ली सल्‍तनत के बादशाह सिकंदर लोदी के शासनकाल के दौरान 1504 में आगरा को पहचान हासिल हुई। हालांकि, इसका सुनहरा समय मुगल काल में शुरू हुआ। मुगल बादशाह अकबर ने यमुना के किनारे अकबराबाद नाम से शहर बसाया और इसे मुगल सल्‍तनत की राजधानी बनाया। यहां से अकबर, जहांगीर और शाहजहां ने अपना शासन चलाया। इसी दौरान इस शहर में ताजमहल का निर्माण भी किया गया जो विश्‍व प्रसिद्ध इमारत बना।

 

 

 

 

पर्यटन को बढ़ाने के लिए हुई शुरुआत
भारत की आजादी के बाद उत्‍तर प्रदेश सरकार ने ताजमहल की पॉपुलैरिटी को विश्‍वस्‍तर पर पहुंचाने के लिए यहां पर ताज महोत्‍सव की शुरुआत की। महोत्‍सव शुरू करने के पीछे पर्यटन को बढ़ावा देने की मंशा थी, जो सफल साबित हुई। 1992 में पहली बार ताज महोत्‍सव का आयोजन हुआ था। तब से लगातार हर साल यूपी सरकार यहां ताज महोत्‍सव का आयोजन करती है। इस बार यह महोत्‍सव 18 फरवरी से शुरू होकर 27 फरवरी तक चलेगा।…NEXT

 

 

 

Read more:

उस्‍मानिया यूनीवर्सिटी में पढ़ने वाले राकेश शर्मा कैसे पहुंचे अंतरिक्ष, जानिए पूरा घटनाक्रम

रतन टाटा आज भी हैं कुंवारे, इस वजह से कभी नहीं की शादी

हर रोज 10 में 9 लोगों की मौत फेफड़ों की बीमारी सीओपीडी से, एक साल में 30 लाख लोगों की गई जान

टीपू सुल्‍तान ने ऐसा क्‍या किया जो कहलाए फॉदर ऑफ रॉकेट, जानिए कैसे अंग्रेजों के उखाड़ दिए पैर

Read Comments

Post a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *